Translate This Website In Any Language

अगर आप भी करते हैं PhonePe, Google Pay का इस्तेमाल, तो इन 5 बातों का हमेशा रखें ध्यान

अगर आप भी करते हैं PhonePe, Google Pay का इस्तेमाल, तो इन 5 बातों का हमेशा रखें ध्यान

PhonePe, Google Pay Safety Tips

UPI Payment Safety Tips अगर आप यूपीआई बेस्ड ऐप फोनपे (PhonePe) और गूगल पे (Google pay) का इस्तेमाल करते हैं, तो आपको सावधान रहना चाहिए। वरना आपको भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है। हालिया रिपोर्ट के मुताबिक भारत में फ्रॉड की घटनाओं में बढ़ोतरी हुआ है। ऐसे में यूपीआई पेमेंट करते वक्त इन पांच बताों को ख्याल रखेंगे, तो आपका ऑनलाइन लेनदेन बिल्कुल सुरक्षित रहेगा। 


आइए जानते हैं इनके बारे में विस्तार से:-


1. हमेशा मजबूत पासवर्ड बनाएं।


यूपीआई ऐप्स जैसे PhonePe और Google Pay यूजर्स को हमेशा मजबूत स्क्रीन लॉक और पेमेंट पिन सेट रखना चाहिए। साथ ही समय-समय पर इसमें बदल देना चाहिए। जिससे कोई दूसरा आपके स्क्रीन पासवर्ड को क्रैक ना कर पाए। यूपीआई बेस्ड लेनदेन करने के लिए यूपीआई एड्रेस, फोन नंबर, क्यूआर (QR) कोड और वर्चुअल पेमेंट एड्रेस (वीपीए, या yourname@yourbank) को शेयर करना चाहिए। इसके अलावा upi बेस्ड पेमेंट से जुड़ी किसी भी जानकारी को नहीं साझा करना चाहिए।



2. हमेशा रजिस्टर्ड नाम को वेरिफाई करें।


लेनदेन से पहले सत्यापन जरूरी है। हमेशा सुनिश्चित करें, कि जब यूपीआई ऐप से क्यूआर (QR) कोड को स्कैन या फिर मैन्यूअली नंबर या वीपीए (VPA) को वेरिफाई करते हैं, तो रिसीवर का रजिस्टर्ड नाम आपकी स्क्रीन पर दिखाई देना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि यूपीआई से गलत व्यक्ति को भेजा गया पैसा वापस नहीं होता है। 



3. यूपीआई आईडी को महत्व दे।


रिमोटली पैसा ट्रांसफर करने से बेहतर है कि upi आईडी या फिर क्यूआर (QR) कोड से लेनदेन किया जाए। हमेशा upi आईडी या फिर क्यूआर (QR) कोड  प्रदान करने के लिए कहना चाहिए। क्योंकि फोन नंबर से पैसा भेजने पर गलती की संभावना ज्यादा रहती है। साथ ही फंड ट्रांसफर करने से पहले बेनेफिशियरी के साथ किए गए लेनदेन को वैरिफाई कर सकें।



4. ज्यादा यूपीआई ऐप्स के इस्तेमाल से बचें।


डिजिटल लेनदेन के लिए एक uip ऐप पर्याप्त है। अब किसी भी upi बेस्ड पेमेंट प्लेटफॉर्म से किसी भी दूसरे ऐप के upi पर ट्रांसफर किया जा सकता है। यूपीआई की ओर से इंटरोऑपरेबिलिटी (अंतरसंचालनीयता) उपलब्ध कराई जाती है। इसलिए भिन्न-भिन्न प्लेटफॉर्म्स, बैंक या ऐप्स में पेमेंट में कोई रूकावट नहीं होती है।



5. यूपीआई ऐप को हमेशा अपडेट रखें।


यूपीआई ऐप को समय-समय पर अपडेट करते रहना चाहिए। दरअसल अपग्रेड्स में सिक्योरिटी अपग्रेड्स शामिल होते हैं, जो आपके ऐप को इस्तेमाल के लिए सुरक्षित बनाते हैं।



Conclusions:-


इन सब बातों का ध्यान रखकर यूपीआई के द्वारा बैंकों में होने वाले फ्रॉड से आसानी से बचा जा सकता है आप इन 5 बातों का अप्लाई करके अपने यूपीआई बेस्ट पेमेंट को सुरक्षित बना सकते हैं।



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ