Translate This Website In Any Language

एमएसएमई क्या है व उद्योगों के लिए इसकी रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया की क्या है | What is MSME and its Registration Process information

एमएसएमई क्या है व उद्योगों के लिए इसकी रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया की क्या है | What is MSME and its Registration Process information

भारत सरकार के सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग मंत्रालय के द्वारा एमएसएमई उद्योगों के लिए कुछ नियम बनाये गए है। देश में मौजूद जो भी सूक्ष्म, छोटे और मध्यम उद्योगों से सम्बंधित नियम, विनियम और कानून है तथा आवश्यकता होने पर नए कानूनों के निर्माण के लिए यह मंत्रालय सर्वोच्च निकाय या संस्था है। हर देश की आर्थिक मजबूती, उम्मीद और व्यवसाय युवा उद्यमी पर ज्यादा रहती है। भारत सरकार छोटे- बड़े व्यापारिक संगठनों को उनके व्यापार में कठिनाईयों का सामना ना करना पड़े, इस बात का ध्यान रखते हुए उन्हें एमएसएमई में आसानी से पंजीकरण करने की सुविधा प्रदान करती है।

एमएसएमई, निवेश के लिए छोटे आकार की एक संस्था है, जिसमे कुशल और अकुशल व्यापारी हो सकते है। जो बड़ी संख्या में बेरोजगारों को रोजगार के अवसर प्रदान करके भारतीय अर्थव्यवस्था को मजबूत करने में अपनी अच्छी भूमिका निभाते है। ये निर्यात के क्षेत्र में योगदान, निर्माण क्षेत्र को बढ़ाना और कच्चे माल, बुनियादी सामान आपूर्ति के द्वारा बड़े उद्योगों को समर्थन प्रदान करते है। भारत सरकार एमएसएमईडी अधिनियम 2006 के तहत पंजीकृत कंपनियों या व्यापार के माध्यम से विभिन्न योजनाओं को बढ़ावा देने के लिए सब्सिडी देती है।


What is MSME

भारत में एमएसएमई का महत्व (Importance of MSME in India)

  • भारत की अर्थव्यवस्था में एमएसएमई का कुल प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष निर्यात में 45% हिस्सा है। केन्द्रीय या राज्य सरकार और बैंकिंग एमएसएमई अधिनियम के तहत लाभ को प्राप्त करने के लिए एमएसएमई पंजीकरण आवश्यक है।

  •  इसके तहत व्यापार में आपको ब्याज की कम दर, उत्पाद शुल्क में छूट, योजना कर सब्सिडी और अन्य कई तरह के लाभ उपलब्ध होंगे। यह एक वैकल्पिक पंजीकरण है, लेकिन छूट को प्राप्त करने के लिए आपको उद्योग आधार पंजीकरण कराना आवश्यक है।

  •  किसी भी प्रकार के उद्योग जैसे कि एकल स्वामित्व वाली, भागीदारी या अन्य प्रकार के व्यवसाय के लिए आप एमएसएमई का प्रमाण प्राप्त कर सकते है।   


एमएसएमई के प्रकार (Types of MSME )

एमएसएमई  सूक्ष्म, छोटे और मध्यम  इन तीनों श्रेणियों के उद्योगों में से किसी भी इंटरप्राइज के अंतर्गत आता है। एमएसएमई उद्योग किसी भी अर्थव्यवस्था की रीढ़ होती है। यह सभी के लिए समान विकास और आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए एक इंजन की तरह कार्य करती है। एमएसएमई को व्यापार में लगने वाले छोटे-बड़े मशीनरी संयंत्र की खरीद में किये गए पूंजी निवेश के अनुसार वर्गीकृत किया जाता है। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग अधिनियम 2006 सिर्फ उन उद्योगों पर ही लागू होता है, जो विनिर्माण क्षेत्र में काम कर रहे है और सेवा क्षेत्र की कंपनियों के लिए उपकरण का निवेश कर रहे है अर्थात सेवा क्षेत्र में काम कर रहे है। तीनों श्रेणी के एमएसएमई उद्योग का वर्णन निम्नलिखित है:-


माइक्रो या सूक्ष्म उद्योग : सूक्ष्म उद्योग सबसे छोटी संस्था है। इस विनिर्माण व्यापार के अंतर्गत संयंत्र और मशीनरी में कम से कम 1 करोड़ तक का निवेश कर सकते है जिसका टर्नओवर 5 करोड़ होना चाहिए।


मध्यम उद्योग : इसके अंतर्गत छोटे विनिर्माण उद्योग के लिए संयत्र और मशीनरी में 10 निवेश कर सकते है, जिसका टर्नओवर कम से कम 50 करोड़ होना चाहिए।


लघु उद्योग : मध्यम विनिर्माण उद्योग के लिए संयत्र और मशीनरी में 20 करोड़ का निवेश कर सकते है जिसका टर्नओवर कम से कम 100 करोड़ होना चाहिए।  


एमएसएमई में उद्योग का पंजीकरण होने से मिलने वाले लाभ (Profit of MSME Registration Certificate)

  • बैंको से लाभ : सभी बैंक और अन्य वित्तीय संस्थान एमएसएमई को पहचानते है इसलिए आपको अपने व्यवसाय के लिए ऋण स्वीकृति कम ब्याज दर पर आसानी से उपलब्ध हो सकती है। एमएसएमई को दी गयी ऋण पर ब्याज की दर सामान्य व्यापार की ब्याज दर की तुलना में 1-1.5 प्रतिशत कम होते है।


  • राज्य सरकार द्वारा छूट : ज्यादातर राज्य उन लोगों को बिजली, कर और औद्योगिक सब्सिडी प्रदान करती है, जिन्होंने अपने व्यापार को एमएसएमईडी अधिनियम के अंतर्गत पंजीकृत किया है। उन्हें राज्य द्वारा विशेष रूप से बिक्री कर में छूट मिलती है।


  • कर लाभ : व्यवसाय के आधार पर एमएसएमई में पंजीकृत होने के बाद एक्साईज छूट योजना का लाभ ले सकते है, व्यवसाय के प्रारंभिक वर्ष में कुछ प्रत्यक्ष करों से भी छूट मिलती है, सरकार के द्वारा व्यवसाय को स्थापित करने में व्यापारियों को कई प्रकार की सब्सिडी भी प्रदान की जाती है, जिससे उन्हें लाभ की प्राप्ति होती है।


  • केंद्र और राज्य की सरकार से अनुमोदन : एमएसएमई में पंजीकृत व्यवसाय को सरकारी लाईसेंस और प्रमाणीकरण जल्द और आसानी से मिल जाते है। कई ऐसी सरकारी निविदाएं या टेंडर है जो कि भारत में लघु व्यवसाय की भागीदारी को बढ़ावा देने के लिए अर्थात केवल एमएसएमई के लिए ही खुली है।



एमएसएमई पंजीकरण में लगने वाले आवश्यक दस्तावेज (MSME Registration Requirements Documents) MSME लोन के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • आवेदन पत्र।

  • पहचान प्रमाण में पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, मतदाता पहचान पत्र की आवश्यकता होगी।

  • रेजिडेंस प्रूफ: पासपोर्ट, लीज एग्रीमेंट, ट्रेड लाइसेंस, टेलीफोन और बिजली बिल, राशन कार्ड और सेल्स टैक्स सर्टिफिकेट।

  • आयु प्रमाण: पासपोर्ट, मतदाता पहचान पत्र, फोटो पैन कार्ड।

  • पैन कार्ड की प्रतिलिपि या ज़ेरॉक्स

  • आधार कार्ड, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस इत्यादि इनमे से कोई एक पहचान प्रमाणपत्र के रूप में आपके पास मौजूद होने आवश्यक है।

  • पासपोर्ट आकार की तस्वीर



अन्य दस्तावेज (Other Documents)

  • अगर आप किराये की संपत्ति पर उद्योग करते है तो किराया समझौता का दस्तावेज

  • स्वामित्व वाली सम्पत्ति के लिए सौदे का दस्तावेज़ या सम्पत्ति का दस्तावेज़

  • एफिडेविट अर्थात शपथपत्र

  • घोषणा दस्तावेज

  • एनओसी

  • साक्षी के रूप में दो व्यक्ति 



वित्तीय दस्तावेज जो आवश्यक हैं

  • पिछले 12 महीनों का बैंक स्टेटमेंट

  • व्यवसाय रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट

  • प्रोपराइटर (एस) पैन कार्ड कॉपी

  • कंपनी पैन कार्ड कॉपी

  • पिछले 2 वर्षों की प्रॉफिट एंड लॉस की बैलेंस शीट कॉपी

  • सेल टैक्स दस्तावेज

  • नगर कर दस्तावेज़


एमएसएमई में पंजीकरण का तरीका (Process of MSME Registration in hindi)

एमएसएमई में पंजीकरण आप ऑफ़ लाइन और ऑनलाइन दोनों ही माध्यम से कर सकते है।

ऑफ़ लाइन पंजीकरण (MSME Registration Offline)

  • सबसे पहले जिस विभाग के लिए आप उद्योग शुरू कर रहे है, उसके साथ एक आवेदन पत्र में जो आपकी बुनियादी सूचना है उसे भरे, उसके बाद संबंधित दस्तावेज के साथ एमएसएमई ऑफिस में पंजीकृत करा लें।

  • आवेदन और दस्तावेज़ को जमा करने से पहले किसी विशेषज्ञ से सारे दस्तावेज को प्रमाणित करा ले, उसके बाद आवेदन को जमा कर दे, आप आवेदन को जिस भी जिले में अपना व्यवसाय शुरू कर रहे है वहां के जिला उद्योग केंद्र में जाकर जमा कर सकते है।

  • इसके बाद विभाग के द्वारा, आपके आवेदन को आपके दस्तावेज़ के साथ एमएसएमई रजिस्ट्रार के पास फाइल किया जायेगा, फिर विशेषज्ञ उसका सत्यापन करेंगे। सत्यापन के बाद आवेदन स्वीकृत हो जाने के बाद आपको एमएसएमई प्रमाण पत्र जारी कर दिया जायेगा और आपको कोरियर और इमेल के माध्यम से सूचित कर दिया जायेगा। 

ऑनलाइन पंजीकरण (MSME Registration Online)

  • ऑनलाइन पंजीकरण के लिए भारत सरकार द्वारा जारी किये गए पोर्टल या लिंक http://udyogaadhaar.gov।in/UA/UAM_Registration।aspx पर जाकर दिए गए निर्देश के अनुसार आधार संख्या, मालिक का नाम इत्यादि को भरने के बाद आवेदन जमा कर दे।

  • उसके बाद आपके पंजीकृत नम्बर या इमेल पर एक ओटीपी अर्थात यूनिक नम्बर आएगा, जिसे आपको आवेदन में डालना होगा और नीचे दिए गए कैप्चा को आवेदन में डालकर इसे जमा कर दें।           

  • जब आप एमएसएमई उद्योग शुरू करते है तब आपको एक अंतिम पंजीकरण के लिए आवेदन करना होता है, जिसके बाद आपको अंतिम एमएसएमई प्रमाणपत्र दिया जाता है। उत्पादन शुरू होने के बाद आप स्थायी प्रमाणपत्र के लिए आवेदन कर सकते है। 




MSME लोन के लिए करना चाहते हैं आवेदन, जानिए स्टेप बाय स्टेप ये आसान प्रोसेस


हाल ही में सरकार ने MSME की परिभाषा बदली है। अगर आप भी MSME लोन के लिए अप्लाई करना चाहते हैं तो आपको क्या करना चाहिए। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (MSME) लोन आमतौर पर स्टार्टअप और छोटे व्यवसाय उद्यमियों को दिए जाते हैं। MSME लोन की चुकौती अवधि अलग-अलग-कर्जदाता के हिसाब से भिन्न होती है। लोन देने के लिए आवेदक की प्रोफ़ाइल और पिछले समय में व्यवसाय कैसा रहा है, रीपेमेंट कैसा रहा है, इस आधार पर ब्याज दरों की पेशकश की जाती है। बैंक और एनबीएफसी MSME लोन के लिए कुछ पात्रता मानदंड रखते हैं। वैसे MSME लोन को भी असुरक्षित लोन कहा जाता है। हाल ही में सरकार ने MSME की परिभाषा बदली है। अगर आप भी MSME लोन के लिए अप्लाई करना चाहते हैं तो आपको क्या करना चाहिए।


  • Udyogaadhaar.gov।in वेबसाइट पर जाएं। यह MSME के रजिस्ट्रेशन के लिए नेशनल पोर्टल है।

  • आधार नंबर, उद्यमी का नाम और डिटेल दर्ज करें, इसके बाद ओटीपी जनरेट करें पर क्लिक करें।

  • आपके मोबाइल नंबर पर एक OTP जाएगा, यह आपके आधार कार्ड से लिंक है। अपना OTP भरें और "Validate" पर क्लिक करें, इसके बाद आपको एक आवेदन फॉर्म दिखाई देगा।

  • आवश्यक सभी डिटेल दर्ज करें।

  • आवेदन पत्र में सभी आवश्यक डिटेल भरने के बाद "सबमिट" पर क्लिक करें।

  • "सबमिट" बटन पर क्लिक करने के बाद, पेज पूछेगा कि क्या आपने सही तरीके से सभी डेटा दर्ज किया है। पुष्टि करने के लिए "ओके" पर क्लिक करें।

  • अब, आपको फिर से आपके मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी मिलेगा जो आपके आधार कार्ड से लिंक है। ओटीपी भरें और आवेदन पत्र जमा करने के लिए "अंतिम सबमिट" पर क्लिक करें।

  • अब आपको रजिस्ट्रेशन संख्या दिखेगा, इसे आगे के काम के लिए नोट कर लें।







 

MSME लोन देने वाले बैंक

  • भारतीय स्टेट बैंक

  • एचडीएफसी बैंक

  • इलाहाबाद बैंक

  • सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया

  • आईसीआईसीआई बैंक

  • बजाज फिनसर्व

  • ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स

  • यूनियन बैंक ऑफ इंडिया


बता दें कि केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 1 जून को अपनी बैठक में सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों (MSMEs) की परिभाषा में बदलाव को मंजूरी दे दी है। मध्यम उद्यमों के लिए टर्नओवर की सीमा को बढ़ाकर 250 करोड़ रुपये किया गया है। 



59 मिनट में PSB लोन क्या है?

ऑटोमेशन और डिजिटाइजेशन इसके कोर होने के साथ, PSB वेब पोर्टल को MSMEs के लिए धन उगाहने की समग्र प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। आंत्रप्रेन्योर्स जो अपने व्यवसाय का विस्तार करना चाहते हैं, संयंत्र या मशीनरी, टेक्नोलॉजी को अपग्रेड, कच्चे माल की खरीद, बड़े पैमाने पर संचालन, सेवा का विस्तार करना चाहते हैं, या अधिक; इन ऋणों का लाभ उठा सकते हैं।

बिजनेस लोन और / बिना संपार्श्विक के सैद्धांतिक स्वीकृति 1 लाख रुपये से 5 करोड़ रुपये तक की राशि के लिए प्रदान की जाती है, जिसमें ब्याज दर 8.5 प्रतिशत से शुरू होती है। प्लेटफॉर्म उधारकर्ताओं की पात्रता की जांच के लिए माइक्रो एंड स्मॉल एंटरप्राइजेज (CGTMSE) के लिए क्रेडिट गारंटी फंड ट्रस्ट के साथ एकीकृत है।


MSME 59 मिनट के लोन के लिए आवेदन कैसे करें?


MSME बिजनेस लोन के लिए ऐसे करें आवेदन, महज 59 मिनट में मिलेगा अप्रुवल



MSMEs के लिए पूंजी की पहुंच को आसान बनाने के लिए 59 मिनट में PSB लोन योजना शुरू की गई थी। लोन राशि 1 लाख रुपये से 5 करोड़ रुपये तक के लिए कोई मानवीय हस्तक्षेप नहीं है, ब्याज दर 8.5 प्रतिशत से शुरू होती है।


पूँजी तक पहुँच भारत में सूक्ष्म (micro), लघु (small) और मध्यम (medium) एटरप्राइजेज (MSMEs) द्वारा सामना किए जाने वाले सबसे आम मुद्दों में से एक है। यद्यपि इस क्षेत्र को भारतीय अर्थव्यवस्था के 'बैकबोन' के रूप में जाना जाता है - भारत के जीडीपी के 31 प्रतिशत और निर्यात में 48 प्रतिशत का योगदान है, सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा यह है कि यह वर्किंग कैपिटल की कमी है।


जिस आकार और प्रकृति में MSMEs काम करते हैं, वह उनके लिए बिजनेस इकोसिस्टम में अपग्रेड के लिए एक परेशानी पैदा करता है। इसलिए, कच्चे माल और मैन्युफैक्चरिंग के लिए MSMEs पर निर्भर Hindware, Goldmedal Electricals, और SLR Metaliks जैसे बड़े नामों के साथ भी भारतीय बाजार में इस क्षेत्र की स्थिति असंगत है।


वर्ष 2018 में तेजी से बढ़ती स्टार्टअप संस्कृति के बीच इस बड़े सेगमेंट को टक्कर देने के लिए एक लहर देखी गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने MSMEs के लिए क्रेडिट की पहुंच बढ़ाने और रोजगार को बढ़ाने के लिए कई पहलों की घोषणा की। उन्होंने एक पोर्टल लॉन्च किया जहां छोटे उद्यम केवल 59 मिनट में 1 करोड़ रुपये तक के लोन का लाभ उठा सकते हैं, जहां जुलाई 2019 में इन-प्रिंसिपल लिमिट को 5 करोड़ रुपये तक बढ़ाया गया था।


मार्च 2019 तक, पोर्टल 35,000 करोड़ रुपये से अधिक के लोन को मंजूरी देने के बाद देश का सबसे बड़ा ऑनलाइन लोन देने वाला प्लेटफॉर्म बन गया था।


इसके लिये बैंक में जाने की जरूरत नहीं है, क्योंकि लोन ऐप्लीकेशन पूरी तरह से डिजिटल है। यहाँ PSB 59-मिनट MSME लोन के लिए आवेदन करने के बारे में स्टेप-बाय-स्टेप गाइडेंस दिया जा रहा हैं:



1. वेब पोर्टल - psbloansin59minutes.com पर जाएं


2. अपना पूरा नाम, ईमेल एड्रेस, मोबाइल नंबर और वन-टाइम पासवर्ड (OTP) जैसी आवश्यक डिटेल्स भरकर अपना अकाउंट रजिस्टर करें।


3. रजिस्ट्रेशन के बाद स्क्रीन पर पूछे गए बेसिक सवालों के उत्तर दें।


4. आपको GST नंबर दर्ज करने के लिए कहा जाएगा।


5. अगली स्क्रीन में, आपको अपने आयकर रिटर्न को XML फॉर्मेट में अपलोड करना होगा, या अपने पैन और निगमन (incorporation) की तारीख जैसी डिटेल्स का उपयोग करके लॉगिन करना होगा।


6. अगली स्टेप में, आपको पिछले छह महीनों की अपनी बैंक अकाउंट डिटेल्स को PDF फॉर्मेट में अपलोड करना होगा। अपने बैंक से संपर्क करके या अपने नेट बैंकिंग अकाउंट के जरिये इस स्टेटमेंट को डाउनलोड करें।


7. डायरेक्टर या प्रोपराइटर, स्वामित्व (ownership) डिटेल्स और कंपनी / बिजनेस की डिटेल्स दर्ज करें।


8. अपने लोन का उद्देश्य, और आपके बिजनेस के लिए आपके द्वारा लिया गया कोई भी मौजूदा या पिछले लोन के बारे में जानकारी दर्ज करें।


9. एक बार जब आप उपरोक्त विवरण दर्ज करते हैं, तो आपको अपनी पसंद का बैंक चुनने के लिए कहा जाएगा। कृपया ध्यान दें कि ब्याज दरें बैंक से बैंक में भिन्न हो सकती हैं।


10. अंत में, आपको अपना आवेदन पूरा करने के लिए 1,000 रुपये की सुविधा शुल्क (convenience fee) + टैक्स का भुगतान करना होगा।


एक बार जब प्रोसेस पूरा हो जाता है और भुगतान हो जाता है, तो आपको 59 मिनट के भीतर लोन की सैद्धांतिक मंजूरी दे दी जाएगी। इन-प्रिंसिपल अप्रुवल के बाद, लोन डिस्बर्समेंट के लिए लिया गया समय उधारकर्ता द्वारा प्रदान की गई जानकारी और डॉक्यूमेंटेशन पर निर्भर करता है। लोन की मंजूरी के लिए आमतौर पर सात से आठ कार्यदिवस लगते हैं।


PSB लोन बैंकरों और उधारदाताओं में SIDBI, भारतीय स्टेट बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, पंजाब नेशनल बैंक, ICICI बैंक, YES बैंक, UCO बैंक, कोटक बैंक, फेडरल बैंक, केनरा बैंक, आदि प्रमुख बैंक शामिल हैं।


People also ask

एमएसएमई लोन के लिए आवेदन कैसे करें?

एमएसएमई लोन के लिए ऑनलाइन एवं ऑफलाइन दोनों तरह से आवेदन किया जा सकता है। ऑनलाइन आवेदन के लिए msme।gov।in में जाकर आवेदन कर सकते है।


एमएसएमई लोन के लिए आवेदन कौन कर सकता है?

राज्य एवं सेंट्रल की कोई भी आर्गेनाइजेशन

इंडस्ट्री/एंटरप्राइज

यह लोन उसी कंपनी को मिल सकता है, जो कंपनी एक्ट के तहत रजिस्टर हो

जो आर्गेनाइजेशन कम से कम 3 से काम कर रही हो और उसका रिकॉर्ड अच्छा रहा हो

जिस कंपनी ने पिछले 3 साल में लगातार ऑडिट भरा हो


एमएसएमई लोन की लिमिट क्या है?

सूक्ष्म के लिए 1 करोड़, लघु के लिए 10 करोड़ एवं मध्यम के लिए 20 करोड़ लिमिट है।


एमएसएमई लोन के लाभ क्या है?

बैंक से लाभ, राज्य सरकार द्वारा छूट, कर लाभ, कम इंटरेस्ट में लाभ

एमएसएमई के तहत लोन कितना मिलता है?

एमएसएमई लोन के तहत 1 करोड़ से 20 करोड़ तक का लाभ मिल सकता है।


एमएसएमई लोन लेने पर इंटरेस्ट रेट क्या है?

एमएसएमई लोन पर इंटरेस्ट रेट 8।30 – 6।25 के बीच है।


MSME में रजिस्ट्रेशन कैसे करें?

MSME को ऑनलाइन कैसे रजिस्टर करें?

  1. UAM पोर्टल पर जाएं जहां आपको एक फॉर्म भरना होगा।

  2. यदि आप पहली बार अपने व्यवसाय को एमएसएमई के रूप में पंजीकृत कर रहे हैं, तो पेज पर पहले लिंक पर क्लिक करें या फॉर्म खोलने के लिए यहां क्लिक करें।

  3. आधार नंबर और नाम दर्ज करें और 'Validate & Generate OTP' पर क्लिक करें।


एमएसएमई में लोन कैसे लें?

एमएसएमई लोन के लिए जरुरी कागजी दस्तावेज

  1. आधार कार्ड

  2. सरकार द्वारा जारी कोई एक पहचान प्रमाण पत्र

  3. सरकार द्वारा जारी कोई एक निवास पहचान प्रमाण पत्र

  4. आयु प्रमाण

  5. पैन कार्ड

  6. पिछले 12 महीनों का बैंक स्टेटमेंट

  7. बिजनेस रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट

  8. अगर बिजनेस पहले से चल रहा है तो पिछले 2 वर्षों की प्रॉफिट एंड लॉस की बैलेंस शीट कॉपी


एमएसएमई क्या योजना है?

माइक्रो, स्मॉल एंड मीडियम एंटरप्राइज (MSME) लोन एक प्रकार का बिज़नेस लोन है जो बैंकों/ लोन संस्थानों द्वारा व्यक्तियों, SME, MSME और स्टार्ट-अप उद्यमों को दिया जाता है।


जीएसटी पर लोन कैसे होता है?

लोन के लिए व्यापारियों को जीएसटी पोर्टल पर जाना होगा। लोन की टर्म एवं कंडीशन भरने के बाद अपनी सहमति जीएसटी नेटवर्क को देना होगी। जिसके जरिए जीएसटी नेटवर्क बेसिक जानकारी डिपार्टमेंट ऑफ फाइनेंशियल सर्विस के साथ शेयर करेगा। इसके बाद लोन स्वीकृत हो जाएगा।


मसमे रजिस्ट्रेशन फीस कितनी है?

उत्तर: हाँ, आधार उद्योग रजिस्ट्रेशन नि: शुल्क है।


एमएसएमई में कौन कौन से उद्योग आते हैं?

MSME Udhyog List 2021

  • आटा चक्की

  • शौचालय साबुन निर्माण

  • टमाटर सॉस निर्माण

  • रोस्टेड राइस फ्लेक्स

  • केला फाइबर निष्कर्षण और बुनाई

  • कंप्यूटर कोडांतरण

  • लाइट इंजीनियरिंग (नट, बोल्ट, वाशर, रिवेट्स आदि)

  • धातु आधारित उद्योग: कृषि उपकरण, कटलरी और हाथ उपकरण

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ