Translate This Website In Any Language

नोटरी बिजनेस शुरू कर 10-50 हजार रूपये प्रतिमाह ऐसे करे कमाई

Notary Business Idea – शुरू करें नोटरी का व्यापार, होगी अच्छी कमाई, जानिए बिजनेस प्लान !


नोटरी व्यवसाय क्या है, मीनिंग, नियम, एडवोकेट, शिक्षा, योग्यता, कार्य, आवेदन, लाइसेंस, लाभ (Notary Business Ideas, Plan, Education, Eligibility, Work, Application, License, Profit in Hindi)


वर्तमान समय में व्यक्ति चाहें तो नोटरी का व्यापार चालू कर सकता है, लेकिन इस व्यापार को चालू करने के लिए आपको experience एवं ट्रेनिंग लेने की जरूरत पड़ती है । यही वजह है कि नोटरी का व्यापार हर शख्स चालू नहीं कर सकता है, क्योंकि नोटरी का व्यापार सरकारी नियम एवं कानून से संबंधित व्यापार है, इसीलिए व्यक्तियों को इच्छा ना होते हुए भी नोटरी का सेवा लेना पड़ता है । तो आज हम इस लेख के माध्यम से जानेंगे की नोटरी का व्यापार क्या होता है, नोटरी का व्यापार कैसे चालू करें तो इस लेख को लास्ट तक पढ़ें ।


वैसे तो आपको प्रत्येक व्यवसाय आरंभ के लिए विशिष्ट प्रकार के प्रशिक्षण व शिक्षा की आवश्यकता होती ही है। हम यहाँ बात कर रहे हैं नोटरी बिजनेस को आरंभ करने की, तो उसके ज्ञान के लिए भी आपको विशेष प्रशिक्षण व शिक्षा की आवश्यकता होगी ही। इसके बिना नोटरी व्यवसाय आरंभ करना असंभव है। क्योंकि एक उचित शिक्षा समाज में रहने वाले व्यक्ति को एक उचित स्थान प्रदान करती है। इसके बिना इस व्यवसाय को आरंभ ही नहीं बल्कि चलाया भी नहीं जा सकता है। आज हम जानेंगे कि किस प्रकार आप इस व्यवसाय में प्रवेश करके इसे आरंभ कर सकते हैं और किस तरह से इसमें सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

Notary Business in hindi

नोटरी व्यवसाय क्या होता है (What is Notary Business)


अगर देखा जाए तो नोटरी का व्यवसाय मुख्य रूप से कानून का व्यवसाय होता है । हालांकि, नोटरी जब किसी कागजात को सर्टिफाइड करता है तो उसके बदले में वो कस्टमर से अच्छा खासा पैसा कमा सकता है । यदि आप भी ऐसे व्यापार को चालू करते है तो आपको व्यवसाय से अच्छा रिटर्न प्राप्त हो सकता है ।


सरल शब्दों में समझें तो नोटरी व्यवसाय में एक आम आदमी की सहायता के लिए एक व्यक्ति को रखा जाता है, जो आम आदमी के निवास प्रमाण पत्र से लेकर बिजली, पानी, गैस सिलेंडर आदि जैसे सभी सुविधाओं पर सरकार की मोहर लगाने में सक्षम होता है। आमतौर पर नोटरी पब्लिक के रूप में जाने जाने वाले इस व्यवसाय में काम करने वाले व्यक्ति को केंद्र सरकार या राज्य सरकार द्वारा नियुक्त किया जाता है। वह व्यक्ति आम जनता के लिए कुछ विशिष्ट कार्यों को अंजाम देता है, जिसमें कई प्रकार के दस्तावेज बनाने का काम, एफिडेविट बनाने का काम, आधारभूत आवश्यकताओं से जुड़े दस्तावेजों को तैयार करने का काम शामिल है। इस सहायता के बदले वह आम जनता से एक निश्चित शुल्क वसूलता है जिससे उसकी आय होती है। ऐसे ही धीरे-धीरे कानूनी औपचारिकताओं की पूर्ति करते हुए नोटरी व्यवसाय उसके लिए एक पेशा और व्यवसाय दोनों ही बन जाता है जिसमें वह जनता की सहायता भी करता है और अपने लिए आय भी अर्जित कर पाता है।



नोटरी के कार्य (Notary’s Work)

जब आप एक बार रजिस्टर्ड नोटरी बन जाते है तो आप कई दस्तावेजों को सत्यापित करने और उन पर अपने हस्ताक्षर करने के लिए अधिकृत हो जाते है।


  • कई ऐसे दस्तावेजों को सत्यापित करना जो जन मानस के लिए जरूरी होते है, वे हैं नाम बदलने का प्रमाणपत्र, रेंट अग्रीमेंट, जमीनी सम्बंधी कागजात, आयु प्रमाण पत्र इत्यादि।


  • मौजूदा तथ्यों के आधार पर कागज़ातों को प्रमाणित करना। इसका यह मतलब होता है कि आपने उन दस्तावेजों को पढ़ लिया है।


  • किसी भी तरह का एफिडेविट तैयार करना।


  • किसी भी आपराधिक मुकदमें के लिए न्यायालय के निर्देशानुसार सबूत रिकॉर्ड करने हेतु कार्य।


  • जरूरत पड़ने पर मध्यस्थता के रूप में कार्य।



कैसे शुरू करें नोटरी का व्यवसाय ?

हालांकि, इतना तो सभी आदमियों को पता है कि नोटरी का व्यवसाय कोई – कोई व्यक्ति चालू कर सकता है, इसे हर आदमी चालू नहीं कर सकता है । इसके बाद सबसे आवश्यक बात यह है कि आपको व्यापार चालू करने के लिए एलएलबी की डिग्री प्राप्त होनी चाहिए और इसके साथ ही experience भी होना चाहिए ।



नोटरी बिजनेस आरंभ करने के लिए आवश्यकताएं (Notary Business Requirements)

वैसे तो इस व्यवसाय को आरंभ करने के लिए कोई आधारभूत वस्तुओं की आवश्यकता नहीं होती है, परंतु कुछ चीजें ऐसी हैं जिनके बिना इस व्यवसाय को आरंभ भी नहीं किया जा सकता है। वे सभी आवश्यकताएं निम्नलिखित विकल्पों में दर्शाई गई हैं।


शिक्षा :- नोटरी बनने के लिए आपको एक विशिष्ट प्रकार की शिक्षा में उत्तीर्ण होना आवश्यक है। जैसे इसके लिए आपको कानून से जुड़ी पढ़ाई करनी होती है जिसे एलएलबी भी कहा जाता है। एलएलबी में आपको 3 या 5 साल की डिग्री प्राप्त करनी आवश्यकता होती है। यदि आप 5 वर्ष की एलएलबी के अंतर्गत अपना नामांकन भरने के लिए सोच रहे हैं तो उससे पहले आपको हायर सेकेंडरी परीक्षा में उत्तीर्ण होना होता है। इसके अलावा 3 साल की एलएलबी करने के लिए आपको किसी भी स्ट्रीम से पढ़ाई पूरी करनी होगी। अधिकतम स्थानों पर या विश्वविद्यालयों में एलएलबी में दाखिला लेते समय कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट अर्थात प्रवेश परीक्षा होती है, जिसे उत्तीर्ण करने के बाद ही आपको इस पढ़ाई के लिए सक्षम माना जाता है। इन सब प्रशिक्षण के साथ ही नोटरी का प्रशिक्षण आपको होना भी बहुत आवश्यक है इसके बाद ही आप लाइसेंस के लिए आवेदन भर सकते हैं। जिसके लिए आपको कुछ समय का अभ्यास अनुभव प्रमाण पत्र भी चाहिए होता है।



इंटर्नशिप करने की जरूरत :- जब व्यक्ति एलएलबी कोर्स समाप्त कर लेता है तो उसे करीब 1 वर्ष के लिए इंटर्नशिप करने की जरूरत होती है । अगर देखा जाए तो इंटर्नशिप कितने वर्ष का होता है ये संस्था निर्धारित करती है । लेकिन लगभग सरकारी संस्था में 1 वर्ष की अवधि तक होता है ।


नोटरी बनने के लिए आवश्यक योग्यता :- नोटरी बनने के लिए जहां एलएलबी करना तो आवश्यक है ही, वही एक अनुभवी रजिस्टर्ड अधिवक्ता के अंतर्गत अनुभव लेना भी बहुत जरूरी है। आरक्षित श्रेणी जिसमें अनुसूचित जाति, जनजाति जैसी सभी जातियों को सम्मिलित किया जाता है, उनके लिए कम से कम 7 साल का अनुभव इस श्रेणी में उत्तीर्ण होने के लिए प्राप्त करना आवश्यक है। वहीँ एक सामान्य श्रेणी के व्यक्ति को कम से कम 10 साल का अनुभव होना आवश्यक है।


आमदनी की संभावनाएं :- इस व्यवसाय में आमतौर पर आमदनी उन लोगों से प्राप्त की जाती है, जो नोटरी से अपने कानूनी काम कराते हैं। जैसे कानूनी दस्तावेजों पर सरकार की मोहर लगवाना, रियल एस्टेट से जुड़े मुद्दों पर सरकार की अनुमति प्राप्त करना और बैंकिंग सेक्टर में किसी चीज की अनुमति प्राप्त करना। यह सभी सुविधाओं को सरल बनाने के लिए आम लोग नोटरी को एक शुल्क प्रदान करते हैं जिससे उनकी आमदनी होती है।


नोटरी प्रशिक्षण :- नोटरी प्रशिक्षण ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही प्रकार से की जा सकती है। ऑफलाइन प्रक्रिया में आपके आसपास कुछ अच्छे इंस्टिट्यूट या कॉलेज उपलब्ध हैं, उसमें जाकर आप अपना नामांकन भरके प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं। ऑनलाइन प्रक्रिया में कई सारे यूट्यूब चैनल हैं जिसके माध्यम से  आपको काफी कुछ प्रशिक्षण मिल जायेगा, इसके अलावा और भी कई सारी वेबसाइट ऐसी हैं जो इस प्रशिक्षण की संपूर्ण प्रक्रिया को पब्लिक करती है।


स्टेट बार काउंसिल इनरोलमेंट :- आपको राज्य के किसी भी बार काउंसिल में एक वकील के रूप में नामांकित होना अनिवार्य है। यह तब होगा जब आपने अपनी एक साल की इंटर्नशिप सफलतापूर्वक पूरी की हो। अधिवक्ता के रूप में आपका नामांकन तभी हो सकता है, जब आपको अधिवक्ता अधिनियम 1961 के प्रावधानों के आधार पर नोटरी के लाइसेंस के लिए आवेदन करने के लिए आवश्यक अनुभव और योग्यता प्राप्त हो जाती है।


नोटरी के लाइसेंस के लिए लगने वाला खर्च :– नोटरी के लाइसेंस के लिए कम से कम 1000 रुपये अदा करने पड़ते है। यह शुल्क 5 वर्षों के लिए होता है इसके बाद लाइसेंस को रिन्यू करवाने के लिए शुल्क 500 रूपये या उससे ज्यादा भी हो सकता है।



भारत में नोटरी के लिए पात्रता मापदंड (Notary Eligibility Requirements in India)

नोटरी बनने के लिए कुछ आधारभूत पात्रता मापदंड को पूरा करना आवश्यक है जोकि इस प्रकार है :-


  • नोटरी बनने के लिए सबसे पहले आपको कम से कम 18 साल का होना आवश्यक है।

  • यदि आप नोटरी बनना चाहते हैं तो आप उस राज्य में ही अपना आवेदन भर सकते हैं जिस राज्य में आप निवास करते हो।

  • नोटरी सेवा में सम्मिलित होने के लिए सबसे बड़ी शर्त यह रखी जाती है कि आपके ऊपर किसी भी प्रकार की गुंडागर्दी या फिर कानूनी दोष ना हो।

  • नोटरी बनने से पहले आपके अतीत को भी खंगाल कर देखा जाता है कि आपको किसी नोटरी कमीशन द्वारा कोई रद्द किए जाने का सर्टिफिकेट ना मिला हो।


नोट :- प्रत्येक राज्य में नोटरी बनने के दिशानिर्देश अलग-अलग हो सकते हैं, जिनको जानने के बाद ही आप नोटरी की पढ़ाई के लिए और नोटरी अफसर बनने के लिए आवेदन भरें।



नोटरी के लिए आवेदन कैसे करें (How to Apply for Notary ?)

नोटरी के लिए आवेदन करने की कुछ प्रक्रिया होती है, जिसे यदि आप सुचारू रूप से पालन करते जाएंगे तो आप शीघ्र ही एक उचित और बेहतरीन नोटरी बन जाएंगे।


  • इसके लिए आपको कुछ कागजी कार्रवाई से गुजरना होता है जिसमें सबसे पहले आपको अपना दाखिला भरना होता है। उसके बाद आपको अपने आप से जुड़े सभी प्रकार के शिक्षा प्रमाण पत्र, पृष्ठभूमि की जांच, नागरिकता, आपकी पहचान की जांच पड़ताल के प्रमाण पत्र और निवास से जुड़े सभी प्रमाण पत्र आदि जमा कराने होते हैं।

  • यदि आप नोटरी से जुड़ी पूरी प्रक्रिया में पास हो जाते हैं तो आपको राज्य के एक प्रमुख नोटरी के अंतर्गत कुछ साल का अनुभव प्राप्त करने के लिए नौकरी करनी पड़ती है। जिसके बाद उस नोटरी से आपको अनुभव का सर्टिफिकेट प्राप्त होता है जो आगे चलकर आपकी नौकरी में काम आता है।

  • जब आप एक उचित नोटरी के साथ काम करके उचित अनुभव प्राप्त कर लेते हैं तो आपको एक उच्च स्थान के नोटरी पर नौकरी मिल जाती है।

  • उसके बाद आप सरकार के अंतर्गत आने वाले बहुत से फैसलों पर सरकारी मोहर लगाकर लोगों की मदद कर सकते हैं, और एक नोटरी की तरह अपना नोटरी व्यवसाय आरंभ कर सकते हैं।



आवश्यक लाइसेंस ?

जब आप एक वकील के रूप में करीब 7 वर्षों का experience प्राप्त कर लेंगे तो आप इसके बाद नोटरी का कार्य चालू करने के लिए लाइसेंस लेने के लिए आवेदन कर सकते है । लाइसेंस लेने के लिए व्यापारी को सरकारी कार्यालय में फॉर्म भरकर देना पड़ता है, जब आपका प्राधिकरण के माध्यम से फॉर्म स्वीकार कर लिया जाएगा तो आपको पहले प्रैक्टिस प्रमाण पत्र प्रदान किया जाएगा । जिसके माध्यम से आप नोटरी का व्यवसाय चालू कर सकते है ।


इसके बाद आपको लाइसेंस लेने के लिए कुछ रुपए फीस के तौर पर जमा करना पड़ता है । यदि नोटरी से संबंधित लाइसेंस लेने के लगने वाली फीस की बात करें तो करीब 1000 हजार रुपए फीस देना होगा और ये लाइसेंस की validity करीब 5 वर्षों तक होती है । अगर आप 5 वर्षों के बाद लाइसेंस को रेन्यू करवाते है तो आपको 500 रुपए की फिस जमा करनी होगी।



नोटरी व्यवसाय के लिए लाइसेंस प्राप्त करने के लिए आवेदन कैसे करें (How to Apply for Notary License ?)

नोटरी का लाइसेंस प्राप्त करने के लिए आपको निम्न छोटी सी प्रक्रिया से गुजरना होता है।


  • सबसे पहले संबंधित विभाग में एक निर्धारित फॉर्म भर कर जमा कराना होगा। जब आपका आवेदन उस विभाग के द्वारा स्वीकृत कर लिया जाता है तब उस व्यक्ति को एक सर्टिफिकेट जारी किया जाएगा, जो उस व्यक्ति को नोटरी का काम करने की अनुमति देता है।

  • इसके बाद आपका नाम सरकारी गजट में नामांकित कर दिया जाएगा और फिर आपका नाम सरकारी दस्तावेजों में नोटरी के रूप में दर्ज हो जायेगा। इस पूरी प्रक्रिया के बाद आप नोटरी के अंतर्गत सीमित प्रकार के दस्तावेजों को नोटरी करने के लिए अधिकृत हो जायेंगे।



नोटरी का काम करने के लिए जरूरी चीजें (Some Important Things to Use in Notary Business)

नोटरी का काम तो वैसे इसका लाइसेंस मिलने के बाद ही शुरू होता है फिर भी लाइसेंस के अलावा भी कुछ चीजें नोटरी के काम के लिए जरूरी होती है।


पेपर – नोटरी का सभी कार्य पेपर पर ही संपन्न होता है इसलिए सबसे पहले आपको पेपर की आवश्यकता होती है जिस पर आप एफिडेविट व सर्टिफिकेट जैसे आवश्यक दस्तावेजों को तैयार कर सकते हैं।


ई–स्टैम्प – नोटरी में एक और चीज सबसे जरूरी होती है वो है ई-स्टैम्प। पहले स्टैम्प पेपर चलते थे, लेकिन अब ई-स्टैम्प का प्रचलन हो गया है और यह सुविधाजनक है।


इंटरनेट – नोटरी के काम मे इंटरनेट की भी आवश्यकता होती है।


मोहर – आपको नोटरी के काम मे एक मोहर की भी आवश्यकता होगी, जिससे आप दस्तावेजों को सत्यापित कर सकेंगे।



कैसे ग्राहक आते है नोटरी के लिए

(Notary Business Customer)

नोटरी के व्यापार में कस्टमर कौन – कौन से होंगे ?


अभी के समय में देखा जाए तो सभी छोटे एवं बड़े कामों को सही तरह से करने के लिए कुछ कागज की जरूरत अवश्य पड़ती है और कई ऐसे कागज है जिनको नोटरी से सर्टिफाइड करवाना जरूरी होता है।


  • यदि आप नोटरी का व्यवसाय चालू करते है तो आपको ऐसे कस्टमर को टारगेट करना होगा। जिसके पास आवासीय प्रमाण पत्र ना हो और वो भारत सरकार द्वारा चलाई गई योजनाओं का लाभ लेना चाहता हो ।

  • इसके बाद आपको ऐसे कस्टमर की खोज करनी होगी, जो लंबे समय से शिक्षा से दूर हो और वो व्यक्ति फिर से शिक्षा शुरू करना चाहता हो ।

  • अगर कोई आदमी अपना नाम बदलना चाहता है तो आप उसे भी कस्टमर के रूप में संपर्क कर सकते है ।

  • किसी को अपने घर का रेंट एग्रीमेंट बनवाना है, तो उसे अधिकृत नोटरी अधिकारी के पास जाना होता है।

  • किसी भी तरह का एफिडेविट बनवाना है जैसे कि आयु का, नाम बदलने का या और भी किसी तरह का एफिडेविट तो वह काम भी नोटरी का होता है।

  • मकान, दुकान या किसी और ज़मीन के कागज सत्यापित करवाने के लिए भी नोटरी की आवश्यकता होती है।



नोटरी का शुल्क (Notary Charges)

  • 10,000 रुपये तक के दस्तावेजों पर शुल्क 35 रुपये

  • 10,000 से 25,000 रुपये तक के दस्तावेजों पर शुल्क 75 रुपये

  • 25,000 से 50,000 रुपये तक के दस्तावेजों पर शुल्क 110 रुपये

  • 50,000 से ज्यादा रुपये तक के दस्तावेजों पर शुल्क 150 रुपये।



निष्कर्ष

व्यवसाय तो कई प्रकार के होते हैं लेकिन कुछ व्यवसाय ऐसे होते हैं जो समाज में व्यक्ति को एक अहम दर्जा दिलाते हैं। उन सब में से एक है नोटरी का व्यवसाय जिसमें समाज में सम्मान तो मिलता है, और एक उच्च दर्जे का स्टेटस भी प्राप्त होता है। इस व्यवसाय के जरिए आप आराम से एक उचित मासिक आमदनी प्राप्त कर सकते हैं।



FAQs

(People also ask)

Q : क्या नोटरी बनना एक कठिन काम है ?

Ans : नोटरी व्यवसाय में नोटरी बनने के लिए के लिए संपूर्ण प्रशिक्षण प्राप्त करने की जरूरत होती है जिसके बाद आप आसानी से नोटरी बनकर समाज की सेवा कर सकते हैं।


Q : क्या एक वकील भी नोटरी का काम कर सकता है?

Ans : साधारण तौर पर बात करें तो एक नोटरी और वकील में कुछ ज्यादा अंतर नहीं होता है। दोनों को ही इस पद पर पहुंचने के लिए एक विशिष्ट प्रकार की शिक्षा प्राप्त करनी होती है और उसके बाद यदि आप नोटरी बनना चाहते हैं तो उसके लिए आपको एक आवेदन पत्र दाखिल करना होता है। वकील के तौर पर आपको उन आवेदन पत्र द्वारा भुगतान शुल्क में एक छूट भी प्राप्त होती है। उसके बाद आप एक वकील होकर भी नोटरी पब्लिक के रूप में कार्य कर सकते हैं।


Q : क्या एक नोटरी कानूनी सलाह दे सकता है?

Ans : नोटरी के पास आने वाले किसी भी ग्राहक को वह किसी दस्तावेज या प्रमाण पत्र को लेकर किसी भी प्रकार की सलाह नहीं दे सकता है। उसकी पूरी स्वतंत्रता उस ग्राहक को दी जाती है कि वह अपने दस्तावेज और प्रमाण पत्र में क्या भरना चाहता है और क्या नहीं। इसके अलावा यदि बात करें कानूनी सलाह की तो एक नोटरी स्वतंत्र रूप से उपभोक्ता की मर्जी से उन्हें कानूनी सलाह प्रदान कर सकते हैं।


Q : एक पब्लिक नोटरी और वकील में क्या अंतर है?

Ans : एक नोटरी जहां पर वसीयत तैयार करने, हलफनामे को दाखिल करने के लिए और दस्तावेजों को तैयार करने की सेवाएं उपभोक्ताओं को प्रदान करते हैं। वहीं दूसरी ओर वकील सभी प्रकार के कानूनी मामलों में कोर्ट के अंदर और कोर्ट के बाहर ग्राहकों की पूरी तरह से सहायता करते हैं। एक वकील बनने के लिए नोटरी की आवश्यकता नहीं होती है दोनों के ही कार्य अलग-अलग होते हैं और दोनों ही एक दूसरे के कार्य में हस्तक्षेप नहीं कर सकते हैं।


Q : क्या नोटरी एक राजपत्रित अधिकारी है?

Ans : जी हां यदि सरल शब्दों में कहें तो नोटरी जनता का एक साधारण वकील भी है जो एक राजपत्रित अधिकारी भी है। जहां वकील होने के नाते उसे अदालत का अधिकारी भी कहा जाता है और जब वह जनता की सेवा करता है तो उसे नोटरी के रूप में जाना जाता है। इसलिए भारत सरकार के द्वारा अधिकारिक राज्य पत्र में उनका नाम दाखिल होता है।


Q : नोटरी का क्या काम है?

Ans : नोटरी एक बड़ी चर्चित कानूनी व्यवस्था है। नोटरी किसी दस्तावेज को तस्दीक करने के लिए इस्तेमाल की जाती है। राज्य और केंद्र सरकार अपने कार्य भार को कम करने के लिए कुछ वकीलों को नोटरी के रूप में नियुक्त कर देती है। यह नोटरी वकील लोगों के बीच होने वाले कुछ एग्रीमेंट और शपथ पत्र को तस्दीक करते हैं।


Q : नोटरी बनने के लिए क्या करना पड़ता है?


Ans : नोटरी वकील बनने के लिए कोई भी कचहरी तथा तहसीलों इसकी योग्यता निम्नलिखित है। अगर आपको नोटरी वकील बनना है और उसकी आपको परीक्षा देनी है, तो आपको उसके लिए B।A।LLB की परीक्षा को पास करना पड़ेगा। जिसने भी तहसील या कचहरी में वकील के रूप में 10 साल, 7 साल या फिर 5 साल तक कार्य किया हो वहीँ Notary वकील बन सकते है।


Q : नोटरी कौन करता है?

Ans : Notary वो Lawyer या Legal व्यवसायी होता है जिसे केंद्र सरकार या राज्य सरकार ने notary act 1952 के तहत नियुक्त किया है। केंद्र सरकार देश के किसी भी कोने मे Notary की नियुक्त कर सकती है जबकि राज्य सरकार अपने राज्य मे किसी भी जगह नोटरी को appoint कर सकती है।


Q : एफिडेविट कितने प्रकार के होते हैं?

Ans : वैसे तो किसी भी प्रकार का एफिडेविट दो तरह से अटेस्टेड करवाया जा सकता है ओथ अधिकारी से और नॉटरी से लेकिन जो एफिडेविट कोर्ट में दिए जाते हैं वह सिर्फ ओथ अधिकारी से ही अटेस्टेड करवाया जा सकते हैं इसके अलावा जो एफिडेविट किसी सरकारी या गैर सरकारी ऑफिस में दिए जाते हैं वह आप सिर्फ नॉटरी से ही अटेस्टेड करवा सकते हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ