Translate This Website In Any Language

कान की सफाई करने वाले कॉटन बड्स के व्यवसाय से ऐसे कमायें 10 हजार रुपये प्रतिमाह

कॉटन बड्स बनाने का बिज़नेस कैसे शुरू करें | How To Start Cotton Buds Making Business in Hindi


कॉटन बड्स बनाने का व्यवसाय (Cotton Buds Manufacturing Business, Process, Machinery, Price, Cost, Investment, Profit in Hindi)


Cotton Buds Manufacturing Business in Hindi: हमारे देश में आजकल अधिकतर लोग स्वयं के बिजनेस खोलने में विश्वास रखते हैं। सबको खुद का बिजनेस ओपन करने की इच्छा रहती है। क्योंकि अधिकतर लोगों का ऐसा मानना है कि नौकरी करने से बेहतर बिजनेस करना होता है। कुछ व्यवसाय होते है, जिन्हे करने के लिए आपको किसी स्पेशल कोर्स की क्या किसी खास पढ़ाई करने की आवश्यकता नहीं पड़ती। ऐसे व्यवसाय जो आप करने लगे तो आपका अच्छा खासा फायदा होगा, जैसे कि कॉटन बड्स बनाने का व्यवसाय। कॉटन बर्ड्स बनाने का व्यवसाय ना केवल भारत देश में परंतु संपूर्ण विश्व में फैला हुआ है और हर जगह इसका काफी स्कोप भी है। कॉटन बड का उपयोग घरेलू व व्यावसायिक लेवल पर किया जाता है।

How To Start Cotton Buds Making Business

कॉटन बड्स प्रोजेक्ट रिपोर्ट, मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस प्लान और मैन्युफैक्चरिंग प्रक्रिया का परिचय:

कॉटन बड्स बनाने का बिज़नेस अधिक मुनाफे के साथ सरल है। व्यवसाय के लिए निवेश बहुत कम है। कपास की कली या स्वाब का उपयोग विभिन्न प्रयोजनों जैसे औषधीय और हाइजीनिक के लिए किया जाता है। यह विभिन्न डिजाइनों में उपलब्ध है जिसमें प्लास्टिक की स्पिंडल के दोनों तरफ कपास होता है। कॉटन ईयरबड्स का इस्तेमाल कान की सफाई के लिए किया जाता है और इसलिए ज्यादातर लोग इसका इस्तेमाल अक्सर करते हैं।


ईयरबड्स बनाने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली कॉटन सामग्री शोषक, उच्च फाइबर शक्ति वाली होनी चाहिए। स्पिंडली या तो पेपर स्टिक का सख्त रोल्‍ड किया गया हो या लकड़ी या प्लास्टिक हो सकता है।


व्यवसाय कई प्रकार के होते हैं जिनमें से कुछ व्यवसाय कम लागत के साथ भी आरंभ किए जा सकते हैं। कम लागत के साथ आरंभ किए जाने वाले व्यवसाय में से ही एक है कॉटन बड्स बनाने का काम। कॉटन बड्स जिन्हें कान की साफ सफाई के लिए इस्तेमाल किया जाता है उनका अविष्कार 20 के दशक की शुरुआत में किया गया था। अब आमतौर पर उन्हें प्रत्येक घर में इस्तेमाल किया जाता है इसलिए इनकी बिक्री और अधिक बढ़ गई है। कम निवेश में अधिक लाभ कमाने का सपना हर किसी का होता है यदि आप भी ऐसे ही ख्वाब रखते हैं, तो इसके लिए आपको कॉटन बर्ड्स व्यवसाय से जुड़ी संपूर्ण प्रक्रिया के बारे में पूरी जानकारी होनी आवश्यक है।



कॉटन बड्स बिजनेस की शुरुवात कैसे करे?

हिंदी में कॉटन बड्स को कपास की फाहे कहा जाता है। बड्स की मांग हर जगह होती है। कॉटन बड एक ऋषि शब्द है। इस व्यवसाय की या किसी और अन्य व्यवसाय की शुरुआत करने से पहले आपको यह पता होना चाहिए कि आप उसे शुरुआत किस प्रकार कर सकते हैं। इस सवाल का यह जवाब है कि आपको सबसे पहले उससे संबंधित हर जानकारी को हासिल करना होगा, आपको कॉटन बड्स के बनाने से लेकर उसके मार्केटिंग तक के हर एक डिटेल को समझने की आवश्यकता पड़ेगी ताकि आप स्मूथली व धैर्य पूर्वक अपना बिजनेस आगे लेकर जा सके।


इस आर्टिकल में आपको कॉटन बेड बनाने के काम की शुरुआत कैसे करें से लेकर उसके लाभ उसकी हानियां, उसे किस प्रकार बनाया जाता है, और मार्केटिंग स्ट्रेटजी क्या होनी चाहिए, इत्यादि जैसे महत्वपूर्ण पहलुओं को विस्तार से दिया गया है।



कॉटन बड्स मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस शुरू करने के लिए बिजनेस प्लान

Business plan To Start Cotton Buds Making Business in Hindi

बिना बिजनेस प्लान के बिजनेस शुरू करना इतना आसान नहीं है। अपने व्यवसाय को सुचारू रूप से चलाने के लिए, आपको एक संपूर्ण व्यवसाय योजना तैयार करने की आवश्यकता है। इसमें भी शामिल है:


  • बाजार की क्षमता

  • कार्यान्वयन अनुसूची

  • आवश्यक अप्रूवल की सूची

  • क्षेत्र की आवश्यकता

  • कच्चा माल

  • मशीनरी की सूची

  • उत्पादन

  • परियोजना अर्थशास्त्र

  • प्रोफिटेबिलिटी


कॉटन बड्स मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस का कार्यान्वयन कार्यक्रम


  • बाजार विश्लेषण और मांग, ऋण के लिए आवेदन: 0 – 1 माह

  • बिज़नेस प्‍लान की तैयारी: १ – २ महीने

  • वित्तीय सहायता या निवेश: 2– 4 महीने

  • स्थान का चयन और यूनिट की स्थापना: 3 – 4 महीने

  • बिजली और पानी के कनेक्शन की सुविधा: 4-5 महीने

  • बिल्डिंग निर्माण और शेड विकास: 5-6 महीने

  • मशीनरी और उपकरण खरीद: 6 – 7 महीने

  • कच्चे माल की खरीद और मैनपॉवर की भर्ती: 8 – 9 महीने

  • ट्राइल ऑपरेशन: 10वां महीना



कॉटन बड्स के व्यवसाय की मांग (Cotton Buds Business Scope)

बाजार में कॉटन बड्स की भारी मांग है और दिन-ब-दिन बढ़ रही है। यह सभी व्यक्तियों के लिए उनकी उम्र के बावजूद आवश्यक उत्पाद माना जाता है। इनका उपयोग मेकअप एक्सेसरीज़, इलेक्ट्रॉनिक और अन्य संवेदनशील क्षेत्रों की सफाई के रूप में भी किया जाता है।


कॉटन बड्स मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस अच्छे मुनाफे के साथ एक आसान स्टार्ट-अप आइडिया है। भले ही बाजार स्थापित ब्रांडों के साथ जाना जाता है, लेकिन स्थानीय ब्रांडों की मांग है क्योंकि वे सस्ती कीमतों पर उपलब्ध हैं। यह नवोदित उद्यमियों के लिए व्यवसाय शुरू करने का एक विकल्प बनाता है।


यदि आप कोई एक ऐसा व्यवसाय ढूंढ रहे हैं जो बाजार में आपको एक अच्छा स्थान दिला सकता है। और साथ ही कम समयावधि में एक अधिक प्रॉफिट अर्जित करने वाला व्यवसाय बन सकता है, तो सबसे अच्छा व्यवसाय कॉटन बड्स का व्यवसाय है। क्योंकि आज के समय में कपास से बनी इन बड्स की मांग बाजार में बहुत अधिक बढ़ चुकी है। इन बर्ड्स का इस्तेमाल कई प्रकार से किया जाता है जैसे घरेलू रूप से सभी आयु वर्ग के लोग कान की सफाई के लिए इसका इस्तेमाल करते हैं। साथ ही इसका इस्तेमाल वर्तमान समय में विभिन्न मेकअप प्रक्रियाओं में भी किया जा रहा है। इसके अलावा इसका इस्तेमाल इलेक्ट्रॉनिक्स की कुछ ऐसी वस्तुओं की साफ सफाई के लिए भी किया जाता है जो अधिक संवेदनशील होती हैं और जिन्हें बिना आहत पहुँचाए भी इस्तेमाल किया जा सकता है। सबसे मुख्य बात तो यह है कि यह कम कीमत पर ही आराम से प्राप्त हो जाता है इसलिए उपभोक्ताओं के बीच यह सबसे अधिक लोकप्रिय है। इसलिए एक नए स्टार्टअप व्यवसाय के लिए यह एक अच्छा विकल्प बन चुका है।



कॉटन बड्स बनाने का बिजनेस की मार्केट रिसर्च

जब भी व्यक्ति कोई नये बिजनेस की की शुरुआत करता है। तो व्यक्ति को सबसे पहले मार्केट रिसर्च करना बहुत ही जरूरी है। मार्केट रिसर्च का मतलब कि आप अपने बिजनेस को कहां पर शुरू कर सकते हैं। बिजनेस को ऐसी जगह पर शुरू करें जहां से प्रोडक्ट को बेचने और ट्रांसपोर्टेशन में भी सुविधा हो बिजनेस से संबंधित जरूरी पदार्थ आसानी से उस जगह पर उपलब्ध हो इस प्रकार से मार्केट रिसर्च के लिए करना जरूरी है। कॉटन बड्स के बिजनेस के लिए भी इसी प्रकार से मार्केट रिसर्च करना होगा।


व्यक्ति अपने बिजनेस को लेकर जितना अधिक मार्केट रिसर्च करता है। उसकी बिक्री भी उतनी ही ज्यादा होती है और यदि किसी प्रोडक्ट का उपयोग कम किया जाता है तो उसकी बिक्री भी कम ही होती है। कॉटन बड एक ऐसा प्रोडक्ट है जिसके बिकने की संभावना है बहुत ज्यादा होती है। मार्केट में किसी प्रोडक्ट की डिमांड कितनी है, उसकी नॉरमल प्राइस कितनी होती है, व किस प्रकार के लोग इस प्रोडक्ट को ज्यादा खरीदते हैं, लोगों की उस प्रोडक्ट में कितनी रुचि है, इत्यादि जैसी जानकारियों के बारे में पता लगाना ही मार्केट रिसर्च कहा जाता है।

किसी भी प्रोडक्ट की मार्केट रिसर्च करना हर व्यवसाय में सबसे महत्वपूर्ण भाग होता है क्योंकि यदि आप अपने प्रोडक्ट के मार्केट को ही नहीं समझ पाएंगे तो आप अपने बिजनेस को आगे नहीं ले जा पाएंगे।



कॉटन बड्स के व्यवसाय के लिए आवश्यक लाइसेंस (Cotton Buds Business Required License)

कॉटन बड्स बनाने का बिजनेस के लिए लाईसेंस एंड रजिस्ट्रेशन

किसी भी व्यवसाय को करने वाले को एक बात हमेशा ध्यान में रखनी चाहिए कि जो भी काम भी कर रहे हैं वह लीगल तरीके से हो और किसी भी इल्लीगल प्रोसेस में ना वह शामिल हो और ना ही उनका काम। कॉटन वर्ल्ड बनाने के काम के लिए कुछ स्पेसिफिक जग्गू पर आपको रजिस्टर करना होता है और कुछ लाइसेंस भी आपके पास होने चाहिए तो आप पहले से ही लीगल तरीके से लाइसेंस को बनवा कर रखें।

आप घर पर भी ऑनलाइन माध्यम से किसी भी वेबसाइट में रजिस्टर कर सकते हैं क्योंकि अभी हमारा देश डिजिटल होते चला है तो काफी काम घर बैठे होने लगे हैं। निम्नलिखित एक सूची दी गई है जिसमें आपको कुछ महत्वपूर्ण पंजीकरण जो करने होंगे उनके बारे में दिया है, आप जब भी अपना व्यवसाय शुरू करने का प्रारंभ करें तो सबसे पहले इन सभी पंजीकरण को अवश्य कर कर ले-


  • फर्म का पंजीकरण

  • GST पंजीकरण

  • ट्रेड लाइसेंस

  • एमएसएमई या एसएसआई पंजीकरण

  • ईपीएफ पंजीकरण

  • ईएसआई पंजीकरण

  • ट्रेडमार्क

  • आईईसी कोड




व्यवसाय चाहे कोई भी हो यदि आरंभ में ही उससे जुड़ी सभी प्रक्रिया पूरी कर ली जाए तो भविष्य में व्यवसाय को लेकर समस्या की संभावना कम हो जाती है। इसलिए कॉटन बड्स व्यवसाय के लिए भी लाइसेंस पंजीकृत करना आपके लिए बेहद आवश्यक हो जाता है। आइए जानते हैं लाइसेंस पंजीकृत करने की संपूर्ण प्रक्रिया –


फर्म का पंजीकरण :- यदि आप अपना व्यवसाय अकेले ही आरंभ करना चाहते हैं तो आप अपने नाम पर फर्म का पंजीकरण करा सकते हैं। और यदि आप कुछ लोगों के साथ मिलकर अर्थात पार्टनरशिप में अपनी कंपनी आरंभ करने की सोच रहे हैं तो उसके लिए आपको पार्टनरशिप फर्म का पंजीकरण कराना होगा।


जीएसटी पंजीकरण :- वर्तमान समय में प्रत्येक व्यवसाय के लिए जीएसटी नंबर प्राप्त करना बेहद आवश्यक हो गया है। जो आपके व्यवसाय की पहचान संख्या और बीमा प्रमाण पत्र भी माना जाता है। तो आपको अपने व्यवसाय के लिए जीएसटी नंबर प्राप्त करने के लिए जीएसटी रजिस्ट्रार ऑफिस जाना होगा, और जीएसटी पंजीकरण कराना होगा। 


ट्रेड लाइसेंस :- किसी भी राज्य में व्यवसाय आरंभ करने के लिए आपको वहां के स्थानीय अधिकारियों से इस व्यवसाय को आरंभ करने से पहले व्यवसाय का ट्रेड लाइसेंस प्राप्त करना अति आवश्यक होता है।


एमएसएमई / एसएसआई पंजीकरण :- यदि आप अपने व्यवसाय को सरकारी योजनाओं के अंतर्गत पंजीकृत कराना चाहते हैं, और व्यवसाय में सरकार की ओर से मिलने वाली विभिन्न सरकारी सब्सिडी व योजनाओं का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं, तो उसके लिए आपको एमएसएमई में  पंजीकरण करना होगा।


ईपीएफ पंजीकरण :- व्यवसाय में आपको कर्मचारियों की आवश्यकता तो अवश्य पढ़ेगी इसके लिए आप यदि कर्मचारी राज्य बीमा जोकि एक ऐसा बीमा है जो श्रमिकों के लिए एक लाभदायक बीमा योजना है, आप उसमें पंजीकरण कराते हैं। इससे आप अपने कर्मचारियों को भी सदैव सुरक्षा की अनुभूति करा सकते हैं।


ईएसआई पंजीकरण :- यदि आप अपने व्यवसाय को एक वृहद रूप देने की सोच रहे हैं तो उसके लिए आपको कम से कम 20 से अधिक कर्मचारियों की आवश्यकता पड़ेगी ही। ऐसे में उस व्यवसाय के लिए ईएसआई पंजीकरण अति आवश्यक है। 


ट्रेडमार्क :- व्यवसाय चाहे कोई भी हो उसके लिए एक ब्रांड नेम पंजीकृत करना बेहद आवश्यक होता है ताकि आपके नाम को कोई चुरा कर अपना नाम न दे सके। आपके द्वारा किया जाने वाला काम सिर्फ आपके नाम से पहचाना जाए, इसके लिए आपको ट्रेडमार्क पंजीकरण कराना अति आवश्यक है।


आईईसी कोड :- एक वृहद रूप वाले व्यवसाय को आरंभ करने के बाद यदि आप कुछ ऐसी योजना बना रहे हैं। जिसके अंतर्गत आप अपने द्वारा उत्पाद किए गए वस्तुओं को अन्य देशों में निर्यात करना चाहते हैं, तो उसके लिए आपको आईईसी कोड लेना अति आवश्यक होता है।



कॉटन बड्स मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस शुरू करने के लिए आवश्यक क्षेत्र

Area required to start Cotton Buds Making Business

कॉटन बड्स को बनाने का काम आप किसी भी जगह पर कर सकते हैं क्योंकि इससे कोई प्रदूषण भी नहीं होता वह कोई भारी रिक्वायरमेंट भी नहीं लगती। आप किसी भी स्थान पर एक छोटी सी दुकान को किराए पर लेकर भी अपने व्यवसाय की शुरुआत कर सकते हैं और यदि आपके पास वह करने के लिए पर्याप्त पैसे ना हो या आपको कोई स्थान किराए से नहीं लेना हो तो आप अपने घर पर भी इस व्यवसाय का प्रारंभ सरलता से कर सकते हैं।


इसके साथ-साथ आप ऑनलाइन माध्यम से भी बर्ड्स को बेच सकते हैं जिसके लिए आपको ऑनलाइन अपनी वेबसाइट तैयार करके उस पर लोगों से ऑनलाइन ऑर्डर असली ना होता है और उन्हें कुरियर कर देना होता है। जिसके लिए आप उनसे अलग से डिलीवरी चार्जेस भी ले सकते हैं। आजकल लगभग हर व्यवसाय डिजिटल माध्यम से ही किया जाता है और इस प्रकार से आप ना केवल अपने शहर परंतु विश्व भर के लोगों को अपना प्रोडक्ट बेच पाएंगे।


इस व्यवसाय को छोटे पैमाने पर आरंभ किया जाता है इसलिए किसी बड़े स्थान की आवश्यकता नहीं होती है। आरंभ में इस व्यवसाय को शुरू करने के समय अधिक पूंजी लगाने और किसी भी व्यवसाय को किराए पर लेने या खरीदने की आवश्यकता नहीं है। यह एक गृह व्यवसाय का रूप है जिसे आप अपने गृह स्थान पर ही अपने परिवार जनों की सहायता से ही आरंभ कर सकते हैं और धीरे-धीरे इसका विस्तार कर सकते हैं। इस व्यवसाय में उत्पादन के लिए बड़ी मशीनों की आवश्यकता नहीं होती है इसलिए कम क्षेत्रफल में भी इस व्यवसाय की मशीनें लगाकर व्यवसाय आरंभ किया जा सकता है। हालांकि बाद में कच्चे माल को रखने और बने हुए माल के भंडारण के लिए जगह की आवश्यकता होती है, जिसके लिए आप कुछ समय पश्चात जब आप पूरी तरह से माल का उत्पादन कर ले तब उत्पाद के भंडारण के अनुसार स्थान ले सकते हैं।



कॉटन बड्स बनाने के लिए आवश्यक कच्चा माल (Cotton Buds Business Raw Material)

कॉटन बड्स बनाने का बिजनेस शुरू करने के लिए आवश्यक कच्चा माल

Raw Material Required to Start Cotton Buds Making Business in Hindi

इस व्यवसाय में बहुत अधिक कच्चे माल किया बहुत महंगे कच्चे माल की आवश्यकता नहीं होती इसमें केवल कुछ ही सामग्री लगती है जो आपको कहीं भी सरलता से कम दाम में मिल जाएगी। सबसे महत्वपूर्ण होता है कॉटन बेड की तीली बनाने के लिए प्लास्टिक का मौजूद होना। वैसे तो अधिकतर कॉटन बड्स प्लास्टिक की तीलियों से ही बनाए जाते हैं परंतु कई लकड़ी का भी इस्तेमाल किया जाता है या फिर आप पेपर को फोल्ड करके भी यूज कर सकते हैं। बेशक कपास की भी आवश्यकता होगी। कई कॉटन बड़ बनाने वाले लोग कॉटन के साथ-साथ थोड़ा सारे ऑन भी मिला देते हैं। इन सबके अलावा आपको पैकेजिंग करने के लिए मटेरियल की भी जरूरत होगी।


कॉटन बड्स का निर्माण पूरा करने वाली विशिष्ट सामग्रियां हैं और हम जानते हैं कि कपास मुख्य वस्तु है, इसके अलावा हमें कॉटन बड्स तैयार करने में नीचे दी गई चीजों की आवश्यकता होती है।


स्पिंडल: स्पिंडल कॉटन बड का मध्य भाग होता है जो आमतौर पर प्लास्टिक सामग्री से बना होता है। स्पिंडल भी रोल्‍ड पेपर या लकड़ी का उपयोग करके भी बनाया जा सकता है। एक स्पिंडल आम तौर पर हल्की सामग्री होती है और इसकी स्‍डैंडर्ड लंबाई लगभग 5 सेमी से 7 सेमी होनी चाहिए।


शोषक सामग्री: शोषक सामग्री तब लेपित लेयर होती है जिसे अवशोषित करने के लिए उपयोग की जाने वाली स्पिंडल के दोनों सिरों पर जोड़ा जाता है।


कपास: कपास का उपयोग शोषक सामग्री पर एक आवरण के रूप में किया जाता है और यह शोषक के रूप में अच्छा होना चाहिए और इसमें फाइबर की अच्छी ताकत होनी चाहिए। Rayon एक निर्दोष सामग्री है जिसका उपयोग कपास के साथ शोषक सामग्री को लपेटने के लिए सहायक होता है।


पैकेजिंग पाउच: किसी भी उत्पाद को उत्पादन के बाद पैक करना पड़ता है और यह इस व्यवसाय में एक महत्वपूर्ण चरण भी है जहां आवश्यकता के अनुसार पैकिंग पाउच का उपयोग करके कॉटन बड्स को पैक करना होता है।


यदि आप कॉटन बड्स की सभी प्रक्रियाओं को पूरी कर चुके हैं तो उसके बाद आपको कॉटन बड्स बनाने के लिए कच्चे माल की आवश्यकता होगी। अब उस व्यवसाय के लिए किस प्रकार के कच्चे माल की आवश्यकता आपको पड़ेगी वह जानकारी निम्नलिखित है :-


  • कॉटन या ईयर बड्स प्लास्टिक की छोटी-छोटी तीलियों से बने होते हैं इसलिए आपको कुछ इस प्रकार की प्लास्टिक से बनी सामग्री की आवश्यकता होगी जिससे आप आसानी से ईयर बड्स बना सकें। इसके लिए आप लकड़ी या रोलड पेपर का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

  • कॉटन बड्स की बड्स पर दोनों तरफ रूई लगाने के लिए जो अच्छी तरह चिपक जाए उसके लिए कोटिंग की परत की आवश्यकता होती है। उसके लिए आपको रुई की भी आवश्यकता होगी इसलिए आपको अच्छी मात्रा में रुई भी ले लेनी चाहिए।

  • मुख्य रूप से इन कॉटन बड्स का इस्तेमाल कान की सफाई या मेकअप के लिए किया जाता है, तो इस बात का ध्यान रखें कि जो रुई आप खरीदने वाले हैं वह उच्च दर्जे की होनी चाहिए।

  • पूरी तरह से तैयार माल की पैकिंग के लिए भी आपको सामान की आवश्यकता होगी, जिसके लिए आप प्लास्टिक से बनी डिबिया या फिर थैलियां ले सकते हैं। और इसमें अच्छी तरह पैक करके आप अपने उत्पाद को उपभोक्ताओं तक पहुंचा सकते हैं।



कॉटन बड्स बनाने के लिए आवश्यक मशीनरी (Cotton Buds Business Machinery)

बड्स का निर्माण मशीनों से भी किया जा सकता है। ऐसी कई मशीनें आती है जिनकी सहायता से आप कॉटन बड के शुरू से लेकर अंतिम प्रोसेस को उसके अंदर ही कर सकते हैं। हालांकि अभी आप अभी अभी शुरु कर रहे हैं तो आपको शुरुआत में समय बनाना भी सरलता से आ जाएगा और जब आपका व्यवसाय आगे बढ़ने लगेगा तब आप इन मशीनों को खरीद सकते हैं।


कई प्रकार की कॉटन ईयरबड्स बनाने वाली मशीनें अब बाजार में देखी जाती हैं, लेकिन व्यवसाय के पैमाने और संचालन की संभावना के आधार पर उपयुक्त मशीन का चयन करना चाहिए।


स्वचालित कॉटन बड बनाने की मशीन :- कॉटन बड्स बनाने की यह एक ऐसी मशीन होती है जो पूरी तरह से कंप्यूटर पीएलसी प्रक्रिया द्वारा नियंत्रित की जाती है। इसकी मदद से बड्स पर चिपकाए जाने वाली रुई को आराम से सुखाया जाता है और वह आराम से उस परत को अपने अंदर अवशोषित करके एक मजबूत ईयर बड तैयार करती है। स्वचालित कॉटन बड्स बनाने की मशीन एक ऐसी नई तकनीक की मशीनें होती है जो पैकेजिंग तकनीक के साथ आती है, जिसकी सहायता से आसानी से माल तैयार होकर पैकिंग की प्रक्रिया तक पहुंच जाता है। यदि आप यह मशीन खरीद लेते हैं तो आपको पैकेजिंग के लिए मशीन अलग से खरीदने की भी आवश्यकता नहीं होती है।


बड्स निर्माण मशीन :– कॉटन बड्स को धुरी कहा जाता है और यदि आप एक लकड़ी की धुरी बनाना चाहते हैं तो आपको खराद मशीन प्रक्रिया का उपयोग करके बड्स को ईयर बड के रूप में बदलना होगा। और यदि आप पेपर की मदद से ईयर बड बनाना चाहते हैं, तो उसके लिए आपको भारी ग्रेड पेपर के साथ-साथ एक डाई कटिंग मशीन खरीदनी होगी जो पतले कागज को कसकर चारों ओर घुमा कर बड्स का आकार प्रदान करती है। इसके अलावा यदि आप प्लास्टिक की बड्स बनाना चाहते हैं तो उसके लिए आपको एक्सटेंशन मोल्डिंग प्रोसेसिंग मशीन खरीदनी होगी, जो प्लास्टिक को पिघलाकर डाई के माध्यम से बड्स के रूप में बदल देती है और मशीन से ही कॉटन में लपेटकर पैकेजिंग मशीन में भेजने की प्रक्रिया को पूरा करती हैं।


पैकेट बनाने की मशीन :- यदि आपने स्वचालित मशीन नहीं खरीदी है तो आपको पैकेजिंग के लिए अलग मशीन खरीदनी होगी। जिसमें कॉटन बर्ड्स की अपने आप ही गिनती कर ली जाती है, यह कार्य सेंसर मशीन के अनुसार होता है। उसके बाद उन तिलियों को एक थैली में डालकर रोल किया जाता है और अपने आप ही वह सारे पैकेट एक बैग में चले जाते हैं।



कॉटन बड्स बनाने की प्रक्रिया (Cotton Buds Making Process)

बड्स बनाने के लिए किसी मुश्किल प्रोसेस से नहीं गुजरना पड़ता इसे बनाना अत्यंत ही सरल होता है इसके लिए आपको केवल उसकी लकड़ी को तैयार रखना होता है और कॉटन को मोड़कर उस लकड़ी के दोनों सिरों पर फिक्स कर देना होता है। कॉटन बड्स को लकड़ी पर चिपकाने के लिए एक पदार्थ आता है आपको वह लगाकर रुई को स्टेज पर मजबूती से चिपकाना होता है और दोनों तरफ से दबाव डालकर उसे सेट करना होता है ताकि कपास लकड़ी के दोनों सिरों पर अच्छी तरह से लग जाए और आसानी से ना निकले।

इस बात का ध्यान रखें कि आप जब कॉटन को मोड़ने लगे तो उसे एक गोलाकार वह चिकना रूप दे। और अंत में जब कॉटन बड्स बनकर तैयार हो जाएंगे तो उनके ऊपर सैलूलोज बहुलक रसायन नाम का एक रसायन कोर्ट कर दे जिससे वे लंबे समय तक स्टिक्स पर टिक कर रहेंगे।


कॉटन बड्स बनाने में शामिल चरणों का उल्लेख नीचे किया गया है-


  1. स्पिंडल फैब्रिकेशन: स्पिंडल बनाने की कई विधियाँ हैं जो उस कच्चे माल पर आधारित होती हैं जिसे हमने स्पिंडल तैयार करने के लिए माना था।


  1. डाई-कटिंग: पेपर स्पिंडल को भारी पेपर की डाई-कटिंग का उपयोग करके बनाया जाता है और इसके बाद पेपर स्पिंडल प्राप्त करने के लिए इसे मजबूती से रोल किया जाता है।


  1. एक्सट्रूज़न मोल्डिंग प्रोसेस: प्लास्टिक स्पिंडल एक्सट्रूज़न मोल्डिंग प्रक्रिया का उपयोग करके बनाए जाते हैं। यहां, प्लास्टिक और अन्य एडिटिव्स को मिलाया जाएगा और फिर एक साथ गर्म किया जाएगा, जिसे बाद में रंगों से गुजरने के लिए भेजा जाता है, फिर वे प्लास्टिक स्पिंडल विकसित करते हैं।


  1. चिपकने वाली सामग्री: चिपकने वाली सामग्री अब स्पिंडल के दोनों तरफ लगाई जाएगी।


  1. कपास के अनुप्रयोग: कपास को स्पिंडल एंड के साथ लेपित गोंद पर लपेटा जाता है; यानी लगभग 0।05 से 1 ग्राम कपास को स्पिंडल के सिरे पर लपेटा जाता है।


  1. कम्प्रेशन: लपेटी हुई कपास को एक संकीर्ण मार्ग के माध्यम से स्वाब के लिए चिकनी और गोल आकार प्राप्त करने के लिए भेजा जाता है।


  1. केमिकल कोटिंग: कॉटन बड्स को धब्बेदार और फफूंदी से बचाने के लिए सेल्युलोज पॉलिमर घोल के साथ एक रासायनिक कोटिंग दी जानी चाहिए।


  1. पैकेजिंग: कपास बडस् तैयार होने के बाद, उन्हें अब पॉलीइथाइलीन पाउच या कार्टन बॉक्स में पैक किया जा सकता है।



कॉटन बड्स बनाने के लिए प्रोजेक्ट रिपोर्ट

Cotton Buds Project Report in Hindi

भारत में कॉटन ईयर बड्स मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस का अर्थशास्त्र

कॉटन ईयर बड्स मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस का अर्थशास्त्र

कॉटन बड्स मैन्युफैक्चरिंग का अर्थशास्त्र (तस्वीर क्रेडिट: पिक्साबे)

निश्चित लागत

पलांट एंड मशीनरी = रु 1,87,200

विविध अचल संपत्ति = रु ८२,५००

प्रारंभिक और पूर्व-संचालन व्यय = रु 4,950

कुल निश्चित लागत = 2,74,650 रुपये।

वर्किंग कैपिटल लागत

वेतन और मजदूरी: रु 27,500

प्रशासनिक खर्च : रु 13,666

बिक्री खर्च : रु 3,300

कच्चा माल : रु 2,20,000

यूटिलिटीज: रु 3,880

कुल वर्किंग कैपिटल लागत: रु 2,68,316

प्रोजेक्‍ट की कुल लागत: रु 5,42,966

कॉटन बड्स का बिक्री मूल्य: प्रति वर्ष 8,75,000 रु

कॉटन बड्स मैन्युफैक्चरिंग बिजनेस में प्रॉफिट : रु 8,75,000 – रु 5,42,966 = रु 3,32,034



कॉटन बड्स को कहां पर बेचें (Where to sell Cotton Buds)

स्वास्थ्य देखभाल केंद्र: स्वास्थ्य देखभाल केंद्रों की एक बड़ी आवश्यकता है क्योंकि वे प्राथमिक चिकित्सा किट के रूप में कपास पट्टी का उपयोग कर रहे हैं और जले हुए क्रीम, मलहम और अन्य दवाओं के सामयिक अनुप्रयोग के लिए उपयोग कर रहे हैं। तो, आप अपने व्यवसाय क्षेत्र के पास स्वास्थ्य देखभाल केंद्रों से संपर्क कर सकते हैं जो आपके व्यवसाय के लिए अधिक आकर्षक है।


मेडिकल स्टोर: अपने उत्पाद को किसी भी मेडिकल स्टोर पर पेश करना आपके व्यवसाय को बढ़ावा देने का सबसे अच्छा तरीका है। इस तरह आप इसे क्षेत्र की अन्य शाखाओं में आपूर्ति कर सकते हैं।


इलेक्ट्रॉनिक्स और सेंसेशनल आइटम सफाई: इसका उपयोग इलेक्ट्रॉनिक भागों की सफाई में भी किया जाता है, जैसे कि कंप्यूटर सिस्टम में मदरबोर्ड। तो, आप उन्हें इलेक्ट्रॉनिक रिपेयर की दुकानों में आपूर्ति करने के बारे में भी सोच सकते हैं।


सौंदर्य प्रसाधन और श्रृंगार: कॉटन बड्स का व्यापक रूप से व्यक्तिगत सफाई और सौंदर्य प्रसाधनों में शरीर पर श्रृंगार के लिए उपयोग किया जाता है। ब्यूटी सैलून में अपने उत्पाद वितरण के बारे में सोचें।


कॉटन बड्स को स्थानीय बाजार में बेचने के लिए: अपने द्वारा उत्पादित किए गए कॉटन बड्स को पूरी तरह से तैयार करके पैकिंग करने के बाद उन्हें मार्केट तक पहुंचाने का काम भी आपका ही होता है। इसके लिए आप एजेंट भी रख सकते हैं और सीधे ही माल बाजार तक स्वयं ही पहुंचा सकते हैं। यदि आप इसकी मार्केटिंग रिटेल में करना चाहते हैं तो आप अपना खुद का स्टोर भी खोल सकते हैं। 

              

कॉटन बड्स को होलसेल बाजार में बेचने के लिए: इसके अतिरिक्त यदि आप होलसेल बाजार में इसकी मार्केटिंग करना चाहते हैं तो आप खुद जाकर या फिर एजेंट के जरिए स्वास्थ्य देखभाल केंद्र, मेडिकल स्टोर और इलेक्ट्रॉनिक्स स्टोर में सफाई वाली दुकान पर या फिर प्रशासन सामग्री और श्रृंगार की दुकान पर अपने बनाए हुए माल को भेज सकते हैं। जिन जगहों पर इनका अधिक इस्तेमाल किया जाता है उन जगहों पर जाकर आप उनकी आवश्यकता के अनुसार उन्हें अपने द्वारा उत्पादित किया गया माल बेच सकते हैं। और लाभ कमा सकते हैं। कॉटन बर्ड्स को होलसेल बाजार में पहुंचाने के लिए आप अपने आसपास के होलसेल बाजार में जाकर दुकानदारों से संपर्क कर सकते हैं।


कॉटन बड्स की ऑनलाइन मार्केटिंग: यदि आप अपने व्यवसाय को एक ऐसा रूप देना चाहते हैं जिसमें आप अपने उत्पाद को पूरे देश या देश के बाहर भी बेचना चाहते हैं, तो उसके लिए आपको एक व्यवसायिक होस्टिंग साइट से जुड़ना होगा। इसके लिए आप निम्न साइट्स के साथ अपने व्यवसाय को जोड़ सकते हैं।


  • अलीबाबा

  • इंडिया मार्ट

  • ट्रेड इंडिया

  • एक्सपोर्ट इंडिया आदि।


यह सभी वेबसाइट थोक आर्डर स्वीकार करती है और यहां पर आप अपना माल बल्क में बेच सकते हैं।


बिजनेस टू कस्टमर वेबसाइट: कॉटन बड्स के व्यवसाय को बिजनेस टू कस्टमर वेबसाइटों का सहारा ले कर भी किया जा सकता है। कुछ वेबसाइट ऐसी होती हैं। जो आपके व्यवसाय को सीधे ग्राहकों तक पहुंचाती हैं। उन वेबसाइट की मदद से आप सीधे ही ग्राहकों के संपर्क में आ जाते हैं और उन्हें प्रत्यक्ष तौर पर अपना माल बेच सकते हैं। कुछ बिजनेस टू कस्टमर वेबसाइट निम्नलिखित हैं जिन पर आप रजिस्टर करके अपने व्यवसाय को एक नया आयाम दे सकते हैं :-

  • फ्लिपकार्ट

  • स्नैपडील आदि।



कॉटन बड्स के व्यवसाय का प्रचार एवं प्रसार (Cotton Buds Business Branding and Marketing)

कॉटन बड्स की ब्रांडिंग एवं मार्केटिंग के लिए आप निम्नलिखित कार्य कर सकते हैं :- 


मार्केट में जितनी भी वस्तुएं बिक रही है। सभी की मार्केटिंग की जाती है और प्रोडक्ट को उचित सर्तक बेचने के लिए मार्केटिंग बहुत ही जरूरी है। मार्केटिंग पदार्थ को बेचने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। मार्केटिंग के माध्यम से पदार्थ को जल्द से जल्द और अच्छे मुनाफे के साथ बेचा जा सकता है।

इन सभी जरूरी बातों के बाद एक और जरूरी मुद्दा होता है जिस पर आपको खास ख्याल रखना होगा, वह होता है मार्केटिंग। अच्छा प्रोडक्ट के साथ-साथ अच्छी मार्केटिंग करना भी बहुत जरूरी होता है ताकि ज्यादा लोग आपके प्रोडक्ट की तरफ अट्रेक्ट हो और आपका बिजनेस बढ़ता चला जाए। आप मार्केटिंग को या तो ऑनलाइन माध्यम से कर सकते हैं या फिर ऑफलाइन तरीके से भी कर सकते हैं।

ऑनलाइन तरीके में आपको सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर अपनी आईडी बनाना होता है जैसे कि इंस्टाग्राम पर, फेसबुक पर, या फिर ट्विटर जैसे अन्य प्रसिद्ध सोशल नेटवर्किंग एप्स पर, और लोगों के समक्ष अपनी एक अलग पहचान प्रेजेंट करना होता है। या फिर आप खुद की एक गूगल पर वेबसाइट भी बना सकते हैं।

इसके अलावा आप अखबारों में अपने प्रोडक्ट का विज्ञापन छपवा सकते हैं या फिर टेलीविजन पर अपने प्रोडक्ट की एडवर्टाइजमेंट प्रकाशित करा सकते हैं जिसके साथ साथ आप पंपलेट पोस्टर श्याम एक जींस की सहायता से भी मार्केटिंग कर सकते हैं।


  • यदि आप अपने व्यवसाय का प्रचार और प्रसार करना चाहते हैं तो आप अपने द्वारा उत्पादित की गई वस्तुओं का फ्री सैंपल उपभोक्ताओं को बांट सकते हैं। यदि उन्हें आपके ब्रांड के कॉटन बर्ड्स पसंद आएंगे तो वे उनकी अधिक मांग करेंगे जिससे आपकी ब्रांडिंग और प्रमोशन दोनों ही हो सकता है।

  • इसके अतिरिक्त आप अपने व्यवसाय को जनता तक पहुंचाने के लिए व्यवसाय कार्ड छपवा सकते हैं। इन्हें आप बड़े बड़े दुकानदारों, रिटेलर्स और साथ ही उपभोक्ताओं तक पहुंचा सकते हैं।

  • आप अपनी व्यवस्था के प्रमोशन के लिए प्रचार का भी सहारा ले सकते हैं जिसके लिए आप पंप्लेट छपवा सकते हैं और अपने आसपास स्थानीय क्षेत्र में बटवा सकते हैं।

  • आप अपने स्थानीय समाचार में भी अपने व्यवसाय से जुड़े विज्ञापन पोस्ट कर सकते हैं, जिससे आपका व्यवसाय आराम से आपके स्थानीय क्षेत्र तक पहुंच जाता है।



कॉटन बड्स के व्यवसाय में लगने वाली कुल लागत (Cotton Buds Business Cost)

कॉटन बड्स बनाने का बिजनेस के लिए इन्वेस्टमेंट

कम इन्वेस्टमेंट के साथ शुरू होने वाले बिजनेस के बारे में बात की जाए तो उसमें कॉटन बड्स का नाम भी शामिल है क्योंकि कॉटन बड्स इस बिजनेस को आप न्यूनतम इन्वेस्टमेंट के साथ शुरू कर सकते हैं।

यह व्यवसाय एक सरल व्यवसाय है और इसमें आपको ज्यादा निवेश की जरूरत नहीं होती और काफी कम वस्तुओं की सहायता से इस बिजनेस की शुरुआत की जा सकती है। आपको कॉटन बनाने के काम के लिए कम से कम 20 हजार रुपयों से लेकर 30 हजार रुपयों तक की ही आवश्यकता होगी और यदि आपके पास यह उपलब्ध नहीं है तो आप लोन के लिए भी आवेदन कर सकते हैं।



कॉटन बड्स के व्यवसाय से मिलने वाला लाभ (Cotton Buds Business Profit)

इस व्यवसाय के काफी लाभ होते हैं जिसमें से पहला वह सबसे ज्यादा अच्छा लाभ होता है कि इसमें आपको ज्यादा निवेश की जरूरत नहीं पड़ेगी। आप केवल कुछ ही रुपयों के साथ इस बिजनेस की अच्छी खासी शुरुआत कर सकेंगे। इस व्यवसाय को छोटे स्तर से भी सरलता से शुरू किया जा सकता है और जैसे-जैसे आप का बिज़नेस आगे बढ़ने लगे तो आप पैमाने को बढ़ा भी सकते हैं। यह काम काफी कम जगह पर भी आसानी से हो सकता है एक कमरे का घर रहा भी तो वह इनफ होता है।


कॉटन बड्स जो बहुत छोटा प्रोडक्ट होता है ऐसे में आप और हम सभी जानते हैं, कि इस पदार्थ से कम लाभ प्राप्त होता है लेकिन आप इस बिजनेस को कम इन्वेस्टमेंट के साथ शुरू करके उच्च स्तर का ले जा सकते हैं और इस बिजनेस को अधिक ऊंचाइयों तक ले जाकर अच्छा-खासा मुनाफा भी कमा सकते हैं।


यदि बात करें इस व्यवसाय से प्राप्त होने वाले लाभ की तो इस व्यवसाय में आपकी लगन और मेहनत का ही अधिक फल होता है। यदि आप इस व्यवसाय का आरंभ 20000 रूपये की राशि से करते हैं तो जल्द ही आपको इस पर 10 से 15 हजार रूपये तक का लाभ प्राप्त हो सकता है।



कॉटन बड्स बनाने का बिजनेस के लिए स्टाफ

इस काम के लिए आपको कोई डिग्री के स्टाफ की भी आवश्यकता नहीं है। उनके लिए बस इतना रिक्वायरमेंट होता है कि जो भी स्टाफ मेंबर आप चूज कर रहे हैं उनमें डिसिप्लिन हो और अपने काम को लेकर इमानदार रहे। यदि आप छोटे सर से अपना बिजनेस शुरू कर रहे हैं तो आपको शुरुआत में स्टाफ की आवश्यकता नहीं पड़ेगी लेकिन यदि आप बड़े स्तर से शुरुआत कर रहे हैं तो आपको स्टाफ की जरूरत अवश्य पड़ेगी। ध्यान रहे ऐसे ही कर्मचारियों को नियुक्त करें जो अपने काम में उत्तम हो और ईमानदार हो।

हर बिजनेस को बढ़ाने के लिए स्टाफ की जरूरत होती है। यदि आप कॉटन बड्स का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं। तो उसके लिए भी आपको स्टाफ की जरूरत होगी। स्टाफ का चयन करते हुए एक बात जरूर ध्यान रखें। कि आप जिस काम के लिए स्टाफ को चयनित कर रहे हैं। उस काम या उस क्षेत्र में व्यक्ति के पास अनुभव होना जरूरी है। ताकि आपका बिजनेस आसानी से सफल हो सके बिजनेस को सफल बनाने में जितनी भूमि का मालिक की होती है। उतनी ही भूमिका स्टाफ की भी होती है।



कॉटन बड्स बनाने का बिजनेस के लिए पैकेजिंग

बाजार में बिकने वाली हर वस्तु के लिए पैकेजिंग बहुत ही जरूरी है और पैकेजिंग के आधार पर ही प्रोडक्ट लोकप्रिय होता है यदि आप की पैकेजिंग और लेबलिंग अच्छी होती है तो आप का प्रोडक्ट बाजार में आसानी से बिक सकता है।

जितना जरूरी कॉटन बड्स को बनाने में परफेक्शन लाना होता है उतना ही जरूरी होता है कॉटन बड्स बनने के बाद उसकी पैकेजिंग में परफेक्शन लाना। क्योंकि लोग सबसे पहले आपके पैकेजिंग को देखकर ही अट्रेक्ट होते हैं। यदि आप बोरिंग पैकेजिंग करेंगे तो लोग भी आपके प्रोडक्ट की तरफ कम ध्यान देंगे। इसलिए जितना क्वालिटी आप अपने प्रोडक्ट में डालते हैं उतनी ही क्वालिटी उसके पैकिंग में भी अवश्य डालें। और अपने प्रोडक्ट का एक अच्छा सा नाम रखें और उसकी पैकेजिंग में उस नाम का लेबल भी लगाए।



कॉटन बड्स बनाने का बिजनेस में रिस्क

कपास एक संस्था प्रोडक्ट होता है और उसके साथ-साथ कॉटन बड्स भी सस्ते प्रोडक्ट्स होते हैं तो आपकी प्रॉफिट मार्जिन उतनी ज्यादा नहीं हो पाएगी। यदि आपको अधिक प्रॉफिट चाहिए तो आप को बड़े स्तर पर ही इस व्यवसाय की शुरुआत करनी पड़ेगी। कॉटन बड्स का व्यापार शुरू करने के पश्चात आपको नुकसान होने के चांस लगभग ना के बराबर होते हैं क्योंकि कॉटन बड्स का व्यापार कम इन्वेस्टमेंट के साथ शुरू होता है और कॉटन बड्स का उपयोग हर नागरिक करता है। ऐसे में आपका बिजनेस अच्छे से अच्छा हो सकता है। बहुत कम चांस होते हैं, कि आपका बिजनेस फ्लॉप हो जाए और आपके द्वारा लगाया गया पैसा डूब जाए। कॉटन बड्स के बिजनेस प्रॉफिट कम होता है लेकिन नुकसान होने के चांस भी बहुत कम है।



निष्कर्ष

कान को साफ करने के लिए कॉटन बड्स का उपयोग आपने भी जरूर किया होगा। कॉटन बड्स का उपयोग अक्सर हर व्यक्ति अपने कान को साफ करने के लिए करता है। कॉटन बड्स का व्यापार शुरू करना काफी आसान है और कॉटन बड्स का व्यापार कैसे शुरू करते हैं। इसके बारे में इस आर्टिकल में हमने पूरी जानकारी आप तक पहुंचाई है।

इस लेख की सहायता से हमने आपको कॉटन बड्स बनाने के काम से संबंधित हर जानकारी को प्रदान किया है जिससे आपको इस विषय में हर एक डिटेल समझने में आसानी होगी। अगर इस आर्टिकल के पश्चात भी आपके मन में इस विषय को लेकर कुछ शंका है तो आप निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर पढ़ सकते हैं। यह प्रश्न कॉटन बड्स बनाने के काम से संबंधित अधिकतर पूछे जाने वाले प्रश्न है।



FAQs

Q : सबसे पहले कॉटन बड्स बनाने का काम किसने किया था?

Ans : 1920 के दशक में एक पोलिस अमेरिकी लियो डेरेस्टेंजेंग के हाथों से कॉटन बड्स बनाने के काम की शुरुआत की गई थी।


Q : कॉटन बड्स को सबसे पहले क्यों बनाया गया था?

Ans : पहले छोटे छोटे शिशुओं के शरीर के कुछ डेलिकेट भागों की सफाई करने के लिए कॉटन बॉल्स का इंवेंशन किया गया था।


Q : कॉटन बड्स के व्यवसाय को छोटे स्तर से शुरू करना चाहिए या बड़े स्तर से?

Ans : कॉटन बड्स का व्यवसाय एक ऐसा व्यवसाय है जिसमें प्रॉफिट मार्जिन काफी कम हो सकती है क्योंकि कॉटन बड्स बहुत सस्ते होते हैं इसीलिए यदि आप छोटे स्तर से इस का बिजनेस करते हैं तो आपको प्रॉफिट बहुत ही कम होगा लेकिन यदि आप बड़े स्तर से इस व्यवसाय की शुरुआत करें तो आपको बहुत ज्यादा लाभ हो सकता है। इसलिए कॉटन बड्स के व्यवसाय की शुरुआत हो सके तो बड़े स्तर से ही करें।


Q : कॉटन बड्स का मुख्य कार्य क्या होता है?

Ans : हमारे शरीर में ऐसे कई भाग्य जिनका साफ-सुथरे रहना बहुत जरूरी है। परंतु वह भाग काफी छोटे होने की वजह से हमारी उंगली वहां पर नहीं पहुंच पाती इसलिए कॉटन बड्स अर्थात रुई के छोटे फाफों की सहायता लेना पड़ता है। कई कलाकार इनका अपनी कला में भी उपयोग करते हैं। और इसके साथ-साथ मेकअप आर्टिस्ट को भी कॉटन बड्स की बहुत जरूरत होती है।


Q : यदि निवेश के लिए पैसे ना हो तो व्यवसाय की शुरुआत कैसे की जा सकती है?

Ans : कई ऐसे व्यवसाय है जिनके लिए आप डिजिटल माध्यम से ऑनलाइन आवेदन कर के लोन के लिए मांग कर सकते हैं, जिसमें आपको एक करोड़ रुपए तक का लोन प्रदान किया जाता है। हालांकि लोन लेने के लिए कुछ टर्म और कंडीशन अप्लाई होते हैं।



Q : कॉटन बड्स बनाने की शुरुआत कब और किसके द्वारा की गई थी ?

Ans : कॉटन बड्स बनाने की शुरुआत सन 1920 के दशक में पोलीस अमेरिकी लियो जेरस्टेनजेंग द्वारा की गई थी।


Q : कॉटन बड्स बनाने की शुरुआत किस लिए की गई थी ?

Ans : इन कॉटन बड्स को बनाने की शुरुआत छोटे बच्चों के शरीर के संवेदनशील भागो की सुरक्षित सफाई के लिए की गई थी, जैसे कान, नाक आदि। बाद में इनका इस्तेमाल छोटे बड़े मेकअप की गतिविधि को पूरा करने और नेल पॉलिश के नए-नए डिजाइन बनाने के लिए किया जाने लगा। वर्तमान समय में इसका उपयोग छोटे घरेलू सामानों को साफ करने के लिए भी किया जाता है जहां पर आसानी से हमारी उंगलियां नहीं पहुंच पाती हैं।


Q : मुख्य रूप से कॉटन बड्स का इस्तेमाल किस उम्र के व्यक्तियों द्वारा किया जाता है ?

Ans : यदि उम्र की बात करें तो सामान्य तौर पर कॉटन बड्स का इस्तेमाल सभी आयु वर्ग के व्यक्तियों के द्वारा किया जाता है।


Q : सबसे पहले कॉटन बड्स बनाने का काम किसने किया था?

Ans : 1920 के दशक में एक पोलिस अमेरिकी लियो डेरेस्टेंजेंग के हाथों से कॉटन बड्स बनाने के काम की शुरुआत की गई थी।


Q : कॉटन बड्स को सबसे पहले क्यों बनाया गया था?

Ans : पहले छोटे छोटे शिशुओं के शरीर के कुछ डेलिकेट भागों की सफाई करने के लिए कॉटन बॉल्स का इंवेंशन किया गया था।




एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ