Translate This Website In Any Language

सोलर सेल या सौर उर्जा बिज़नेस कैसे शुरू करें? How to Start a Solar Energy Plant Business in India

सरकार के साथ सोलर सेल या सौर उर्जा बिज़नेस कैसे शुरू करें (How to Start a Solar Energy Plant Business in India in hindi)

सोलर पेनल बिजनेस कैसे शुरू करे solar panel business kaise start kare, सोलर एनर्जी प्लांट कैसे लगाए solar energy plant kaise lagaye, सोलर एनर्जी बिजनेस का प्लान कैसे बनाए solar energy business plan hindi

भारत मे अभी सोलर एनर्जी का क्षेत्र पूरी तरह से खाली है इसलिए सरकार भी पर्यावरण को ध्यान मे रखते हुए सोलर एनर्जी को बढ़ावा दे रही है। इससे लोगों को फायदा यह होता है कि उन्हे कम पैसों को 24 घंटे बिजली की सुविधा मिल जाती है। ग्रामीण क्षेत्रों मे बिजली कटोती की समस्या ज्यादा रहती है। और शहरों मे लोग बिजली बिल के दाम अधिक होने के कारण परेशान रहते है। ऐसे मे इस समस्या के समाधान के लिए सोलर पेनल एकमात्र विकल्प है। आपके लिए यह एक बिजनेस अवसर हो सकता है। अगर आप किसी ऐसे बिजनेस की तलाश मे है। जो आपको भविष्य मे भी अच्छा मुनाफा दे तो सोलर पेनल का बिजनेस आपके लिए बेहतर हो सकता है। इस लेख मे हम आपको सोलर पेनल बिजनेस के बारे मे विस्तार से जानकारी देने वाले है इसलिए इस लेख को पूरा पढे।

सोलर सेल या सौर उर्जा बिज़नेस कैसे शुरू करें (How to Start a Solar Energy Plant Business in India

देश मे सोलर पेनल Solar Panel को बढ़ावा देने के लिए देश की सरकार ने भी सोलर पावर योजना शुरू की थी जिसके माध्यम से कोई भी युवा अपना बिजनेस शुरू करके कमाई कर सकता है। ऐसे मे आप भी इस योजना से जुड़कर कमाई कर सकते है। या आप सोलर प्लांट लगाकर उसके जरिए बिजली सप्लाई करके भी कमाई कर सकते है। देश में डब्ल्यूटीओ (WTO) के मानकों पर 202 तक 25,000 मेगावाट से एक लाख मेगावाट तक सौर ऊर्जा पैदा करने का लक्ष्य है. इससे नए रोजगार पैदा होने की संभावना है।


अगर आप इस व्यापार को शुरू करने का सोच रहे है, तो इसे कैसे शुरू कर सकते है, आपको इसमे कितना खर्च करना होगा, आपको इसमें किसी ट्रेनिंग की आवश्यकता पड़ेगी या नहीं, और आपको इसमें कितना लाभ होगा, आपके इन सवालो के जवाब हम आज अपने इस आर्टिकल के माध्यम से देने जा रहे है.

सोलर इंडस्ट्री में प्रोडक्ट और सर्विस दोनों के आधार पर बिजनेस शुरू कर सकते हैं. हालांकि इसके लिये आपको बहुत बड़ी संख्या में उपभोक्ताओं को आकर्षित करना होगा या इसके स्थान पर किसी विशेष वर्ग को आकर्षित करके भी बिजनेस शुरू किया जा सकता हैं, लेकिन इसके लिए  सोलर बिजनेस के सभी पहलुओं को गहराई से समझने की जरुरत होगी.


  • सोलर एनर्जी ऑडिटिंग (Solar Energy Auditing) – ये पूरी तरह जानकारी आधारित बिजनेस हैं,सोलर एनर्जी ऑडीटर के तौर पर आपका पहला काम एनर्जी की आवश्यकता सम्बन्धित जानकारियाँ एकत्र करना हैं. जब भी कोई सोलर एनेर्जी पैनल लगाना चाहे, तो उसे सबसे पहले यही काम करना पड़ता हैं. हालांकि ऑडिटर वास्तव में सेल्सपर्सन ही होता हैं, जो कि ऊर्जा के स्त्रोतों की  मार्केटिंग करता हैं,और ऊर्जा उपभोग के सम्बंध में लोगों को जानकारी देता हैं, इस बिजनेस के लिए बहुत कम संसाधनों की आवश्यकता होती हैं, इसे घर से भी शुरू किया जा सकता हैं.


  • सोलर पैनल इंस्टालेशन (Solar Panel Installation)- सोलर पैनल का बिजनेस शुरू करने किए लिए पर्याप्त जानकरी और तकनीकी स्किल होनी चाहिए. ये बिजनेस काफी प्रोफिटेबल हैं और इससे आकर्षक रिवेन्यु भी मिलता हैं. फ्रेश पैनल इंस्टालेशन के अलावा आप रिपेयरिंग सर्विस का काम भी देख सकते हैं. हालांकि बिजनेस में थोडा इन्वेस्टमेंट,स्टाफ और मार्केटिंग सम्बन्धित खर्चे होते हैं.


  • सोलर प्रोडक्ट डिस्ट्रीब्यूशन (Solar Product Distribution)- यदि आप ऊर्जा के क्षेत्र  में डिस्ट्रीब्यूशन या ट्रेडिंग का बिजनेस करना चाहते हैं, तो ये  सबसे उपयुक्त बिजनेस हैं. हालांकि आपको इसके लिए किसी ऐसी अच्छी कम्पनी को खोजना होगा, जिसे आपके एरिया में डिस्ट्रीब्युटर की तलाश हो. आप अपने एरिया में बेचने के लिए अन्य देशों से भी माल इम्पोर्ट कर सकते हैं.


  • सोलर प्रोडक्ट मैन्युफैक्चरिंग (Solar Product Manufacturing)- ये एक पूँजी प्रधान  बिजनेस हैं, जिसमें आपके पास मार्केटिंग और फाइनेंशीयल प्रोजेक्शन का बिजनेस प्लान भी होना चाहिए. इसके अलावा  आप कुछ सोलर प्रोडक्ट्स के ट्रेडिशनल आइटम भी विकसित कर सकते हैं. इनमें सबसे ट्रेंडिंग सेगमेंट सोलर लाईट,सोलर गैजेट और सोलर रिचार्जर हैं,यदि आपका प्रोडक्ट उपभोक्ता को पसंद आता हैं, ये तुरंत पोप्युलर हो सकता हैं.


  • सोलर सिस्टम रिपेयरिंग एंड मेंटेंनेस (Solar System Repairing & Maintenance)-ये मार्केट सर्विस के बाद का बिजनेस हैं,सोलर प्रोजेक्ट के  इंस्टालेशन के बाद भी इसके मेंटेनेन्स के लिए रोज  संभालने और रिपेयर करने की जरूरत होती हैं. इसलिए इस  क्षेत्र में भी बहुत सम्भावानाये हैं,हालांकि इस बिजनेस में टेक्निकल और नेटवर्किंग स्किल्स की जरूरत होती हैं, लेकिन ये कम कॉस्ट वाला स्टार्टअप हैं .



सोलर पैनल्स क्या होते है ?

सोलर पैनल्स Solar Panel एक प्रकार का उपकरण है जिसके माध्यम से सूर्य की धूप से बिजली पैदा की जाती है। जिसका इस्तेमाल आप अपने घरों मे कर सकते है। सोलर पेनल छोटे छोटे सेल्स से जुड़कर बनता है।  

जिन पर जैसे ही सूरज की रोशनी गिरती है, तो वे उस सेल्स की मदद से उस रोशनी को करंट या बिजली मे बदल देते है ऐसे ही बहुत सारे सेल्स एक साथ मिलकर एक बड़े सोलर पेनल का निर्माण करते है। 



सोलर पेनल प्रोडक्ट 

वर्तमान समय मे बिजली की बढ़ती हुए दरों को देखते हुए मार्केट मे सोलर पेनल के अनेकों प्रकार के प्रोडक्ट आ चुके है। जिनकी मार्केट मे काफी डिमांड है। ऐसे मे आप इन प्रोडक्ट को बेचकर महीने मे कम से कम एक लाख रुपये तक कमा सकते है।


  • सोलर पीवी, 

  • सोलर एटिक फेन,

  • सोलर थर्मल सिस्‍टम,

  • सोलर कूलिंग सिस्‍टम 

  • सोलर मोबाइल चार्जर, 

  • सोलर वॉटर हीटर, 

  • सोलर पम्‍प, 

  • सोलर लाइट्स 



सोलर पावर बिजनेस कैसे शुरू करें?

सोलर पेनल बिजनेस कैसे करे Solar Panel Business Kaise Kare

इंडिया में एक ऐसे ही तेजी से बढ़ता हुआ इंडस्ट्री है जिसमे लोग अपना फ्यूचर देख रहें है, वो है सोलर इंडस्ट्री. सोलर का नाम आते ही आपको समझ में आ रहा होगा कि सोलर पैनल की बिज़नस. सोलर पैनल (Solar Panel) को हिंदी में सोलर प्लेट और सौर उर्जा से भी लोग जानते है. इसका प्रयोग फ्री का बिजली बनाने में किया जाता है और बिजली हर घर, फैक्ट्री, स्कूल, हॉस्पिटल, ऑफिस की जरुरत है. तो आपको इसकी फ्यूचर ग्रोथ के बारें में अनुमान लग गया होगा.


हरियाणा की सोलर कंपनी लूम सोलर (Loom Solar) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अभियान आत्मनिर्भर भारत के तहत किसी भी स्टार्टअप, बिजनेसमैन या प्रोफेशनल कंपनी को बिजनेस का मौका दे रही है. इसके तहत सोलर बिजनेस शुरू करने के 3 तरीके हैं. लूम सोलर, देश की सोलर पैनल मैन्युफैक्चरिंग की बड़ी कंपनी है. कंपनी लेटेस्ट टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके सोलर पैनल और एसी मॉड्यूल्स बनाती है. खासकर घरों में सोलर पैनल के इस्तेमाल को ध्यान में हुए काम करती है. लूम सोलर की हरियाणा के सोनीपत में सोलर पैनल बनाने की फैक्ट्री है. फिलहाल कंपनी के 1500 से ज्यादा रिटेल डीलर्स हैं.


Solar Panel का बिजनेस करने के लिए आपके पास अलग अलग प्रकार के तरीके मौजूद है। जिसे आप अपने बजट के हिसाब से चुन सकते है। 


सोलर पेनल कंपनियों से फ्रेंचाईजी लेकर बिजनस कैसे करे Solar Panel Franchise Kaise Le

अगर आपके पास अच्छा बजट है, तो आप सोलर पेनल मेन्यूफेकचर करने वाली कंपनियों से आप फ्रेंचाईजी लेकर अपना बिजनेस शुरू कर सकते है। आप सोलर पेनल को ज्यादा से ज्यादा ग्राहकों बेचकर मुनाफा कमा सकते हो। इसमे आपको अधिक मुनाफा होता है। देश मे ऐसी बहुत सी बड़ी बड़ी कंपनीया है जो शहरों मे ज्यादा से ज्यादा अपने स्टोर बनाने की तलाश मे रहती है। ऐसे मे आप उन कंपनियों से कॉन्टेक्ट करके उनसे जुड़कर अपना बिजनेस शुरू कर सकते है। किसी भी सोलर पेनल Solar Panel बनाने वाली कंपनी से फ्रेंचाईजी लेने लेने के लिए आपको अपना रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए आपको आपको चार्ज भी देना होता है जोकि हजारों से लेकर लाखों मे हो सकता है। वे कंपनिया आपसे इसलिए मोटा चार्ज करती है क्योंकि उन कंपनियों का मार्केट मे पहले से नाम होता है।  लोग उनके प्रोडक्ट नाम देखकर ही खरीदना पसंद करते है। इसलिए आपको इन कंपनियों की फ्रेंचाईजी लेने के बाद मार्केटिंग के लिए पैसा खर्च करने की जरूरत नहीं होती है।  क्योंकि कंपनी अपने प्रोडक्ट की मार्केटिंग खुद करती है। 

उन्हे बस लोगों तक अपने प्रोडक्ट को पहुचाने के लिए कस्टमर के नजदीकी स्टोर की तलाश होती है।  इसलिए ये कंपनीया दूसरे लोगों को फ्रेंचाईजी देकर अलग अलग शहरों मे अपने स्टोर खोलकर खुद भी बिजनेस करती है और दूसरे लोगों को भी मौका देती है। ऐसें आपके पास 10 से 15 लाख रुपये का बजट है तो आप सोलर पेनल की कंपनियों से फ्रेंचाईजी लेकर मोटी कमाई कर सकते है। इसके अलावा आपको अपने स्टोर के लिए खुद का जीएसटी नंबर लेना अनिवार्य है। प्रोडक्ट की मार्केटिंग के लिए कंपनी की तरफ से आपको डीलर सर्टिफिकेट, सेल्स मैनेजर, शॉपर बोर्ड, टी शर्ट इत्यादि मिलते है। 


सोलर प्लांट लगाकर बिजनेस करे Solar Panel Plant se Business Kare

देश मे सोलर पेनल एनर्जी Solar Panel Energy को ज्यादा से ज्यादा बढ़ावा देने के लिए मोदी सरकार द्वारा सोलर पावर योजना शुरू की गई है। जिसके माध्यम से आप किसी भी प्रकार की खाली पड़ी जगह जगह मे सोलर प्लांट लगाकर बिजली पैदा करके उसे सप्लाई करके अपना बिजनेस शुरू कर सकते है। इस कार्य के लिए केंद्र सरकार लोन भी प्रदान कर रही है जिसका फायदा आप ले सकते है। इस बिजनेस को शुरू करने के लिए आपको अपने क्षेत्र मे मे बिजली प्रदान करने वाली सरकारी कंपनियों से संपर्क करके उनसे लाइसेंस लेना होगा। बिजली कंपनियों से लाइसेंस लेने के बाद सोलर प्लांट लगाने के लिए प्रति किलोवाट के हिसाब से निवेश 60-80 हजार रुपए होगा। आप इस कार्य मे केवल 500 किलोवाट तक ही बिजली की ट्रेडिंग कर सकते है इससे ज्यादा नहीं सोलर प्लांट लगाने के लिए ज्यादा मेन्टिनेस का खर्चा नहीं आता है एक्सपर्ट्स की माने तो आपको 10 वर्ष मे केवल  बैटरी बदलने की जरूरत होती है। इसके अलावा इस प्लांट को एक जगह से दूसरी जगह पर शिफ्ट करना भी काफी आसान है। एक किलोवाट वाले सोलर पेनल से एक घर की बिजली का खर्च आसानी से चल सकता है। यदि एयरकंडीशन है तो आपको दो किलोवाट की जरूरत होगी। वर्तमान मे छत्‍तीसगढ़, पंजाब, राजस्‍थान, मध्‍य प्रदेश  मे यह सुविधा मिल रही है। दूसरे राज्यों को अभी इसके लिए थोड़ा और इंतजार करना होगा। 


डिस्ट्रीब्यूटरशिप लेकर (Distributor for Solar Energy Business) 

डिस्ट्रीब्यूटर वह व्यक्ति होता है, जो अंतिम ग्राहक और डीलर के बीच की कड़ी होता है. यही वह व्यक्ति होता है, जो विभिन्न स्टोर्स, या विभिन्न ऑनलाइन चैनल और डीलर्स के माध्यम से उपकरणों को ग्राहको के लिए उपलब्ध करवाता है. अगर आप सोलर उपकरणों के डिस्ट्रीब्यूटर बनना चाहते है, तो आपको इसके लिए निवेश भी अधिक करना होगा. इसके लिए आपको कंपनी के माध्यम से ट्रेनिंग भी दी जाएगी और आपको अपने राज्य शासन और अन्य विभागो के अनुरूप कुछ लाईसेंस भी लेने होगे.


डिस्ट्रीब्यूटर बनने के लिए निवेश (Investment For Become a Distributor) –

डिस्ट्रीब्यूटर बनने के लिए आपको अपेक्षाकृत अधिक निवेश करना होगा, भारत सोलर एनर्जी कंपनी डिस्ट्रीब्यूटरशिप लेने के लिए आपको 7 से 8 लाख तक का निवेश आएगा. जिसमें लगभग 1 लाख आपसे कंपनी की तरफ से फीस के रूप में लिए जाते है.


लाभ (Profit) – इसमें आपके पास सर्व करने के लिए अपेक्षाकृत बड़ा मार्केट होगा इसलिए आपके लाभ का प्रतिशत भी ज्यादा होगा. आप इसके द्वारा भी हजारो से लाखो रुपयों की कमाई हर महीने कर सकते है.


सोलर मेन्टीनेंस एड्वाइजर बनकर शुरू करें बिजनेस 

अगर आपको टेक्निकल से जुड़े कामों मे रुचि है तो आप सोलर कंसल्टेंट बनकर भी बिजनेस शुरू कर सकते है। लोग पहले सोलर प्लांट , सोलर पेनल लगवाने से पहले उसके बारे मे अच्छे से जानकारी प्राप्त करना चाहते है। ऐसे मे आप सोलर पेनल को ठीक करने के बारे अच्छी जानकारी प्राप्त करके इसके टेकनीशियन भी बन सकते है। 

आज के समय मे सोलर पेनल से जुड़े 6 महीने से लेकर एक वर्ष तक के डिप्लोमा या सर्टिफिकेट कोर्स भी मौजूद है। जिन्हे करके आप इसके बारे मे जानकारी प्राप्त कर सकते है और सोलर पेनल कंपनियों से साथ टेकनीशियन के तौर पर जुड़कर भी कमाई कर सकते है या खुद का टेकनीशियन शॉप खोल सकते है। 


सोलर एनर्जी बिज़नेस एजेंट बनकर (Become a Solar Equipment Agent for Business) –

अगर आपके पास इस व्यापार में निवेश करने के लिए ज्यादा पैसा नहीं है तब भी आप इस व्यापार में इन्वेस्ट करके पैसा बना सकते है. कम निवेश में पैसा कमाने के लिए आप इसमें एजेंट बनने का विकल्प अपना सकते है. एजेंट बनकर आप इस कंपनी के प्रॉडक्ट बेच और इन्स्टाल कर सकते है. इसके बदले में आपको कंपनी द्वारा कमिशन दिया जाएगा.


निवेश (Investment) – जैसा की हमने आपको पहले ही बताया की आपको एजेंट बनने के लिए बहुत कम निवेश करना होगा तो इसमें आप मात्र 8 से 12 हजार तक का इनवेस्टमेंट करके लाभ कमा सकते है.


लाभ (Profit) – आप सोलर उपकरण एजेंट बनकर और कंपनी के प्रॉडक्ट इन्स्टाल करके या बेचकर अच्छा खासा लाभ कमा सकते है. आप अनुमानित रूप से इसके जरिये हर महीने हजारो की कमाई कर सकते है.


सोलर बिज़नस एसोशिएट (Solar Business associate) 

सोलर बिजनेस एसोसिएट वह व्यक्ति होता है, जिसे कंपनी अपने सभी उपकरण के संबंध में संपूर्ण ट्रेनिंग प्रदान करती है. अब आगे यह व्यक्ति अपने एरिया में लोगों को यह जानकारी देता है और कंपनी के प्रॉडक्ट को मार्केट में बेचने का काम करता है. इस तरह से कंपनी के प्रॉडक्ट को मार्केट में स्थान मिलता है और कंपनी का प्रॉफ़िट होता है. आपके द्वारा की गई प्रत्येक सेल के लिए कंपनी आपको आपका कमिशन प्रदान करती है. इस तरह से एक बार ट्रेनिंग पर इनवेस्टमेंट के बाद यह पूर्ण रूप से कमिशन पर आधारित व्यापार है.


सोलर बिज़नस एसोशिएट के लिए आपको कितना निवेश करना होगा  (Investment For Solar Business Associate) – अगर आप बिजनेस एसोसिएट बनकर इस व्यापार को करना चाहते है, तो आपको एक बार लगभग 25 से 30 हजार रुपय खर्च कर कंपनी से ट्रेनिंग लेनी होगी. इसके बाद आप मार्केट में जाकर इसके प्रॉडक्ट सेल कर मुनाफा कमा सकते है.


सोलर बिज़नस एसोशिएट को होने वाला लाभ (Profit Of Solar Business Associate) – अगर आप व्यापार के इस तरीके का चयन करते है, तो इसमे होने वाला लाभ पूर्ण रूप से आपकी मेहनत पर निर्भर करता है. आप मेहनत कर जीतने उपकरण मार्केट में बेचेंगे, उतना अधिक लाभ आपको मिलेगा. वैसे आप चाहें तो 10 हजार रुपय से लेकर लाखों रुपय हर महीने कमा सकते है.


सोलर बिज़नस के लिए डीलरशिप लेकर (Dealership for Solar Business) 

आप अगर चाहे तो सोलर उपकरणों की डीलरशिप लेकर भी अपना व्यवसाय शुरू कर सकते है. भारत मे मौजूद कई कंपनीस अपने व्यवसाय को बढ़ाने के लिए अगर –अलग शहरों में डीलर बना रही है. परंतु इसके लिए आपको इन्वेस्ट अधिक करना होगा और आपके पास सेल्स और मार्केटिंग टीम होना भी अनिवार्य है. अगर आप किसी कंपनी का डीलरशिप लेते है, तो कंपनी आपको मार्केटिंग और प्रमोशन में पूर्ण सहायता करती है, परंतु आपके व्यापार की सफलता आपके ऊपर अधिक निर्भर करती है.


डीलरशिप लेने के लिए कितना निवेश करना होगा (Investment For Dealership) – आपको सोलर उपकरणों की डीलरशिप लेने में कितना निवेश करना पड़ेगा, यह पूर्ण रूप से इस बात पर निर्भर करता है की आप किस कंपनी से डीलरशिप ले रहे है. अगर आप सू-कैम कंपनी की डीलरशिप लेते है, तो आपको इसके लिए 2 लाख निवेश करना होगा, परंतु अगर आप भारत सोलर एनर्जी नमक कंपनी से डीलरशिप लेते है, तो आपको 50 हजार में डीलरशिप मिल जाएगी. परंतु उनकी शर्त के अनुसार आपको 3 लाख का सामान पहली खरीदी में खरीदना होगा, इस प्रकार से आपका कुल प्रथम निवेश 3.5 लाख होगा. इसके अलावा भी आप अन्य सोलर कंपनीस जैसे मोजर बियर, इंडोसोलर और आदित्य सोलर जैसी कंपनीस के साथ डीलर शिप के लिए सोच सकते है, इनके बारे में संपूर्ण जानकारी आपको इनकी ऑफ़िशियल साइट पर मिल जाएगी.


डीलरशिप लेकर होने वाला लाभ (Profit In Dealership) – इसमें होने वाला लाभ भी पूर्ण रूप से आपके मार्केट पर निर्भर करता है, अगर आपका एरिया ऐसा है और आपके यहाँ इन उपकरणों की सेल अधिक है, तो आप इस व्यापार के द्वारा अधिक पैसा कमा सकते है. आप चाहे तो इसमें लाखो की कमाई कर सकते है.



भारत में मौजूद प्रमुख सोलर पावर कंपनियां (Solar Equipment Companies In India) –   

इस क्षेत्र में अपार संभावनाओं को देखते हुये कई अग्रणी कंपनियां इस और अपना ध्यान आकर्षित कर रही है. अभी फिलहाल भारत में इस क्षेत्र में कार्यरत कंपनियां और उनके ऑफ़िशियल साइट इस प्रकार से है.




लाइसेंस और सर्टिफिकेट (License and Certification)

इसके लिए कई तरह के सर्टिफिकेशन की जरूरत होगी. आपको ये लाइसेंस और सर्टिफिकेट प्राप्त करने के लिए योग्यता हासिल करनी होंगे,जिसमें  निम्न सर्टिफिकेट शामिल किये.


  • टिन नंबर (TIN number)

  • एसोसिएशन का आर्टिकल (The article of Association)

  • मेमोरेंडम का एक आर्टिकल (An article of Memorandum)

  • कमेंस्मेंट का एक आर्टिकल (Certificate of Commencement)


ऑथोरिटी को किसी भी तरह गलत जानकारी मिलने पर वो आपको  लाइसेंस नही देगी, दो मुख्य सर्टिफिकेट और डॉक्यूमेंट जिनके नाम दी आर्टिकल ऑफ़ एसोशिएसन एंड आर्टिकल ऑफ़ मेमोरेंडम हैं,उनकी आपको बिजनेस शुरू करने में सख्त आवश्यकता होगी.



सोलर बिजनेस में सरकार द्वारा दी जाने वाली सब्सिडी (Government subsidies in the solar business)

भारत सरकार ने सोलर एनर्जी प्रोडक्शन के क्षेत्र में जो सबसे महत्वपूर्ण कदम उठाया  हैं वो “जवाहर नेहरु नेशनल सोलर मिशन” की स्थापना हैं. इसका उद्देश्य 2022 तक 20 हजार मेगावाट की सोलर एनेर्जी का उत्पादन करना हैं. ये 20 मिलियन स्क्वेयर मीटर के एरिया में सोलर एनेर्जी का उत्पादन करता हैं.

इसके अलावा एक और सरकारी योजना के द्वारा सब्सिडी हैं “सोलर एनर्जी सब्सिडी स्कीम” की, जो कि सोलर पैनल के उपयोग को बढ़ावा देती हैं. ये सोलर पैनल बनाने में मदद नहीं करती, लेकिन सोलर पैनल के उपभोक्ताओं के लिए उपयोगी है. ये उन लोगो को सब्सिडी देती हैं जिन्होंने अपने घर में सोलर पैनल लगा रखे हैं. एक अन्य प्रोजेक्ट एसइसीआई (SECI) प्रोजेक्ट का उद्देश्य बड़े पैमाने पर रूफटॉप सोलर पैनल लगाना हैं. यह सरकार की योजनाओं को एक जगह केन्द्रित करके इसका ज्यादा से ज्यादा लाभ उठाने के लिए चलाया जाने वाला प्रोजेक्ट हैं. इससे जो लोग अपनी छतों पर सोलर पैनल लगवाना चाहते हैं उनके लिए इसके निर्माण और इंस्टालेशन में आसानी होती हैं अगर आप सोलर एनर्जी से जुड़ा कोई भी व्यापार स्टार्ट करते है, तो यह आपके लिए फायदे का सौदा ही होगा, क्योंकि भारत की जलवायु कुछ इस तरह की है, कि यहाँ सोलर उपकरण अच्छा काम करते है. इसी के साथ यहाँ ग्रामीण क्षेत्रो में ऐसे उपकरणों की सख्त आवश्यकता भी है. इन्ही संभावनाओं को देखते हुए कई बड़े और नामी कंपनियां भी इस क्षेत्र में व्यापार के लिए उतर आई है. आप भी इन कंपनियों के साथ जुड़कर अच्छा मुनाफा कमा सकते है और स्वयं को सेटल कर सकते है.



क्यों भविष्य का बिजनेस है सोलर पावर?

बिजली के बढ़ते हुए दामों और ग्रामीण क्षेत्रों मे बिजली कटोती ज्यादा होने की वजह से सोलर पेनल की डिमांड तेजी से बढ़ती जा रही है।अभी ज्यादा लोग इसके प्रति जागरूक नहीं है, लेकिन आने वाले समय मे बिजली के बढ़ते हुए दामों के कारण लोग इसके बारे मे जानकर ज्यादा जागरूक होंगे।  जिसके कारण सोलर पेनल का बिजनेस तेजी से बढ़ेगा।  वहीं, WTO की मानो तो देश में  2022 तक 20 हजार मेगावाट से 1 लाख मेगावाट तक सौर ऊर्जा बनाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके अलावा भारत ने  2030 तक पेरिस जलवायु समझौते के तहत गैर जीवाश्म ईंधन स्रोतों से 40 % बिजली बनाने का लक्ष्य बनाया हुआ है। 

देश मे मेक इन इंडिया मिशन के तहत सोलर पेनल एनर्जी को भी बढ़वा दिया जा रहा है। ऐसे मे आप अंदाजा लगा सकते है कि सोलर पेनल का बिजनेस आपके लिए कितना फायदे का सौदा हो सकता है। 

सरकार इस बिजनेस को इसलिए भी बढ़ावा दे रही है, क्योंकि इस बिजनेस के माध्यम से युवाओ के लिए बड़ी संख्या मे रोजगार के अवसर खुल जाते है। ]



क्या है 'वन वर्ल्ड, वन सन, वन ग्रिड' प्लान?

यह दुनिया को सोलर पावर से जोड़ने का विस्तृत प्लान है, जिसे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कई बार दोहराया है. इसके तहत एक कॉमन ग्रिड के जरिए 140 देशों को जोड़ेने की योजना है. ग्लोबल ग्रिड की योजना का भारत की ओर से सहसंस्थापित इंटरनेशनल सोलर अलांयस (आईएसए) को मजबूत करेगा, जिसमें अभी भारत समेत 67 देश शामिल हैं. यह सोलर ग्रिड दो जोन में बंटा होगा. ईस्ट जोन में म्यांमार, वियतनाम, थाइलैंड, लाओ, कंबोडिया जैसे देश शामिल होंगे. वहीं वेस्ट जोन मिडिल ईस्ट और अफ्रीका क्षेत्र के देशों को कवर करेगा. इससे आप इस सेक्टर के मौकों का अंदाजा लगा सकते हैं.



आपके लिए इस सेक्टर में मौके क्यों हैं?

कोई भी बिजनेस करने से पहले ये सबसे जरूरी सवाल है. इसका जवाब है कि भारत की भौगोलिक स्थिति ऐसी है जहां साल में औसतन 300 दिन धूप आती है. प्राकृतिक ईंधन कम हो रहा है और पेट्रोल-डीजल की कीमतें लगातार बढ़ रही हैं. ऐसे में सरकार चाहती है कि देश सौर ऊर्जा की तरफ जाए और बिजली पर निर्भरता कम हो. इसलिए राज्य तथा केंद्र सरकारें लगातार सौर ऊर्जा के इस्तेमाल को बढ़ावा देने के लिए सुविधाएं दे रही हैं. पिछले महीने ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मध्य प्रदेश में 700 मेगावाट के सोलर प्लांट का उद्घाटन किया था, इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि भारत कितनी तेजी से सौर ऊर्जा की तरफ बढ़ रहा है. कुल मिलाकर सोलर पैनल एक ऐसा बिजनेस है, जिसे PM मोदी के आत्मनिर्भर भारत के तहत आप आसानी से कर भी सकते हैं और पैसे कमा सकते हैं.



निवेश के लिए पैसे कहां से आएंगे?

वैसे तो इसका शुरुआती निवेश काफी कम है लेकिन फिर भी अगर आपके पास पैसे नहीं हैं तो कई बैंक इसके लिए फाइनेंस करते हैं. आप इसके लिए सोलर सब्सिडी स्कीम, कुसुम योजना, राष्ट्रीय सौर ऊर्जा मिशन के तहल बैंक से SME लोन ले सकते हैं. एक अनुमान के मुताबिक, इस बिजनेस से महीने में 30 हजार रुपए से लेकर 1 लाख रुपए तक कमाई हो सकती है. इसके साथ ही सोलर बिजनेस के लिए कई स्कीमों के तहत भारत सरकार 30 प्रतिशत तक की सब्सिडी देती है. इस स्कीम के बारे में आप हर जिले के अक्षय ऊर्जा विभाग में जाकर जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.



किस सोलर कंपनी के साथ जुड़े?

ऊपर दिए गए सोलर बिजनेस Opportunity से समझ गए होगे. अब बात आती है किस सोलर कंपनी के साथ ये काम शुरू करें. हरियाणा की सोलर कंपनी "लूम सोलर" जो 2018 में शुरू हुई थी और देखते ही दखते सोलर इंडस्ट्री में नये प्रोडक्ट्स, फ़ास्ट होम डिलीवरी और प्रीमियम इंस्टालेशन हर घर तक पहुचाया जिसके कारण आज के समय में लगभग 2500 सोलर रीसेलर  बने. इस कंपनी के साथ जुड़ कर काम स्टार्ट कर सकते है.



निष्कर्ष

लेख मे आपने बिजनेस के बारे मे क्या सीखा

सोलर का बिजनेस हर साल 3 गुना की रफ़्तार से बढ़ रही है. जो इस बिजनेस को एक डीलर बनकर शुरू किये थे वो आज अपने जिले के डिस्ट्रीब्यूटर बन चुके है और जो सोलर इन्फ़्लुएकेनेर बनकर शुरू किये थे वो आज अपना इंस्टालेशन और खुद का बिजनेस चला रहे है. इससे आपको आईडिया लग गया होगा कि सोलर बिजनेस का भविष्य कैसा होगा. इस लेख मे हमने आपको सोलर पेनल से जुड़े हुए कम बजट वाले बिजनेस से लेकर हाई बजट तक के बारे मे बताया है. आपका जैसा बजट है आप अपनी इच्छा से उसी सोलर पेनल के उसी बिजनेस मॉडल को चुन सकते है।  


इस लेख मे हमने आपको बताया है कि सोलर पेनल बिजनेस कैसे शुरू करे solar panel business kaise start kare, सोलर एनर्जी प्लांट कैसे लगाए solar energy plant kaise lagaye, सोलर एनर्जी बिजनेस का प्लान कैसे बनाए solar energy business plan hindi अगर आपको सोलर पेनल बिजनेस से जुड़ी यह जानकारी पसंद आई है तो आप अपनी राय हमे कमेन्ट बॉक्स मे जरूर बताए इस बिजनेस को लेकर अगर आपका किसी प्रकार सवाल है तो आप हमसे कमेन्ट के जरिए अपने सवाल पूछ सकते है। हम आपकी पूरी मदद करेंगे। धन्यवाद 




लोगों ने यह भी पूछा

Q. प्रधानमंत्री फ्री सोलर पैनल योजना क्या है?

Ans: प्रधानमंत्री सोलर पैनल योजना का लाभ

इस योजना का लाभ उठा कर देश के किसान सशक्त तथा आत्मनिर्भर बनेगे। 1 वर्ष में 1 मेगा वाट प्लांट 11 लाख यूनिट ऊर्जा प्रदान करेगा, आपकी बनाई ऊर्जा कंपनी 30 पैसे पर यूनिट खरीदेगी। प्रधानमंत्री जी के माध्यम से इस KUSUM Yojana के दुवारा किसानो को दो प्रकार का लाभ दिए जायगा।


Q. सोलर बिजनेस क्या होता है?

सोलर बिजनेस क्या है?

Ans: सोलर बिजली की जरूरत और लोगो की बजट के अनुसार उन्हें ऐसी सुविधा देता है, जो उनके घरों में बिजली से चलने वाले इलेक्ट्रिक उपकरणों को चलाने में मदद करता है, और ऐसी ही सुविधाओं के लिए सोलर को बेचकर मुनाफा कमाने वाले बिज़नेस को सोलर बिज़नेस कहते है।


Q. सोलर लाइट की कीमत कितनी है?

Ans: यदि बात करे 1kW सोलर पैनल की कीमत की तो इसकी कीमत लगभग २०,०००रुपये से लेकर ३६,००० रुपये तक मिलता है, ये निर्भर करता है सोलर पैनल की Technology, Quantity, Quality, Brand और उसके Service पर निर्भर करता है. यदि बात करे सौर उर्जा प्लेट पर वाट की कीमत की तो आपको 18 रुपये से लेकर 36 रुपये तक मार्केट में उपलब्ध है


Q. घर में सोलर प्लेट कैसे बनाये?

Ans: 

  1. एक ताम्र पत्र लो और बराबर भागों में काटो। ...

  2. ताम्बे की एक शीट को गर्म करो लगभग 20-30 Min. ...

  3. इसके साथ ताम्बे की एक तार जोड़ दो। ...

  4. दूसरी शीट लो और उसे भी तार से जोड़ दो।

  5. एक प्लास्टिक बोतल लो और उसे बीच से काट दो अब इसकी तली मे नमक और पानी का घोल बना लो।


Q. 1 किलोवाट सोलर पैनल में क्या क्या चल सकता है?

Ans:

  • 1 किलोवाट हाइब्रिड सोलर सिस्टम की स्पेसिफिकेशन्स पर्टिक्युलर्स डिस्क्रिप्शन सोलर सिस्टम 1kW. सोलर पैनल 335 वाट पेनल्स की संख्या 3 Nos. ...

  • 1 किलोवाट हाइब्रिड सोलर सिस्टम के साथ रेकमेंडेड लोड और पावर बैकअप घरेलू उपकरण लोड की क्षमता बैकअप टाइम 4 एलईडी + 4 पंखे + 1 टीवी 800 वाट 3 घंटे 4 एलईडी + 3 पंखे + 1 फ्रिज 800 वाट


Q. सबसे बढ़िया सोलर पैनल कौन सी कंपनी का है?

Ans: टाटा पावर सोलर (Tata Power Solar)

टाटा पावर सोलर भारत का सबसे विश्वसनीय और भरोसेमंद सोलर पैनल और सौर ऊर्जा से जुड़े प्रोडक्ट का निर्माता और सप्लायर है. कंपनी सोलर पॉवर के क्षेत्र में नए-नए प्रोडक्ट उपलब्ध करवाने में हमेशा ही अग्रणी रही है.


Q. सौर ऊर्जा कैसे पैदा होती है?

Ans: धरती पर पड़ने वाली सूरज की रौशनी और उसमे मौजूद गर्मी ही सौर ऊर्जा कहलाती है। धरती पर सौर ऊर्जा ही एकमात्र ऐसा ऊर्जा स्रोत है जो अन्य ऊर्जा स्रोतों की तुलना में अत्यधिक मात्रा में उपलब्ध है। सूर्य से पृथ्वी पर अधिक मात्रा में ऊर्जा पहुँचती है तथा पृथ्वी पर इसका इस्तेमाल विद्युत् उत्पन्न करने में भी किया जाता है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ